2500 करोड़ के इन्वेस्टर्स ने राजस्थान के स्टार्टअप्स से किया इंटरेक्ट

 

जयपुर। राजस्थान के स्टार्टअप्स् के लिए खास कार्यक्रम ‘टाई स्मैशअप 2019’ के पाँचवें संस्करण का आयोजनं किया गया। दो दिवसीय इस आयोजन का पहला दिन वन-ऑन-वन स्टार्टअप डीप डेटिंग के साथ शुरू हुआ जिसमें 24 चयनित स्टार्टअप ने हिस्सा लिया। इस मीटिंग में सभी स्टार्टअपस् ने इन्वेस्टर्स के सामने अपने विचारों व स्टार्टअप स्टोरीज को साझा किया तथा उनके बारें में विस्तार से बताया। पहले दिन के कार्यक्रम में 2500 करोड़ के इन्वेस्टर्स ने राजस्थान के स्टार्टअप्स के साथ इंटरेक्ट किया है। अपनी तरह के इस अनूठे कार्यक्रम में सभी स्टार्टअप्स् को देशभर से आये हुये 14 इन्वेस्टर्स से वन-ऑन-वन मीटिंग के लिये 15 मिनट का समय दिया गया जिसमें पहले 7 मिनट में उन्होंने अपने स्टार्टअप के बारें में बताया तथा बाकी के 7 मिनट में स्टार्टअप्स ने इन्वेस्टर्स को उनके सवालों के जवाब दिये। कार्यक्रम में प्रमुख इन्वेस्टर्स में मुंबई एंजेल्स, रेन, टाई इंडिया एंजेल्स, इंडियन एंजेल्स नेटवर्क, द इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट ऑफ इंडिया, यूनिकॉर्न वेंचर्स, स्टार्टअप ओएसिस, लेट्स वेंचर, काइट वेंचर्स, आह! वेंचर्स, लीड एंजेल्स, अर्थ वेंचर फंड, पैसिफिक गेमिंग, की वेंचर्स ने भाग लिया। टाई राजस्थान के प्रेसीडेंट चिराग पटेल ने बताया कि, डीप डेटिंग कन्सेप्ट में चयनित स्टार्टअपस् को एक छत के नीचे अधिक से अधिक इन्वेस्टर्स से मिलने का मौका प्रदान किया जाता है। स्टार्टअपस् के लिये इस अनूठे कार्यक्रम में हम उभरते एन्टरप्रेन्योर्स के साथ अनुभवी स्टार्टअप संस्थापकों की यात्रा व अनुभव साझा करने के लिये संकल्पित है। हमें यकीन है कि दिग्गजों और हमारे एन्टरप्रेन्योर्स के बीच विचारों के लेन-देन से निकट भविष्य में लाभ जरूर अर्जित होगा। हम यह भी मानते है कि टाई राजस्थान के मेंटर्स और पार्टनर्स ने सभी स्टार्टअप को अच्छी तरह से क्यूरेट किया है जिससे निवेश योग्य विचारों के लिए एक उच्च सफलता अनुपात प्राप्त होगा।टाई ग्लोबल के वाईस चैयर महावीर प्रताप शर्मा ने बताया कि, स्मैशअप 2019 में आये सभी स्टार्टअप्स में से 25 प्रतिशत से अधिक स्टार्टअप्स के पास निवेश योग्य आइडियाज़ है। हमें विश्वास है कि हमारे एक से अधिक निवेश नेटवक्र्स इन स्टार्टअप्स में पूल-इन कर सह-निवेश करेंगें। बिजसन इनोवेशन प्राइवेट लिमिटेड के अमित कुमार जैन ने अपने स्टार्टअप के बारें में बताते हुये कहा कि, मैनें अपने स्टार्टअप की शुरूआत 2017 में की थी। बिजसन इनोवेशन एक बायो टेक्नोलॉजी स्टार्टअप है जिसमें गीले व सूखे कचरे से बायो सीएनजी गैस बनाई जाती है। गीले व सूखे कचरे को अलग-अलग किया जाता है इसमें 99.5 प्रतिशत मिथेन होता है। बायो सीएनजी गैस बनाने के लिए किसी भी तरह की एनर्जी की जरूरत नहीं पड़ती है। 200 से 250 किलो की इस बायो मशीन की लागत 7 से 8 लाख रूपये तक होती है।12 महीने पहले शुरू हुआ हैलो वल्र्ड स्टार्टअप के बारें में जानकारी देते हुये धवल जैन ने बताया कि यह एक मोबाईल एप्लीकेशन है जोकि फर्नीचर प्लेटफॉर्म डिस्प्ले पर काम करता है। यह फर्नीचर को 3डी वर्चुअल टेक्नोलॉजी द्वारा डिस्प्ले करते है और आपके घर के अनुसार डेकोरेट करके दिखाते है कि आपको किस प्रकार का फर्नीचर लेना चाहिये।जयपुर स्थित मालावालाज़ स्र्टाटअप के बारें में प्रकाश जांगिड और अशोक जांगिड ने बताया कि हमने मंदिरों में चढ़ाई जाने वाली फूलों की मालाओं को रिसाइकिल करके आर्गेनिक अगरबत्ती बनाई है। फूलों की पत्त्यिों से अगरबत्तीयां बनाई जाती है एवं बची हुई माला को खाद् बनाने के काम में लिया जाता है। आज हम जयपुर के 1700 स्टोर्स पर आर्गेनिक अगरबत्तीयां बेच रहे है। इन प्रोडक्ट्स की कीमत 15, 35 और 55 रूपये रखी गई है।वीयरसेंट टेक्नोलॉजीज़ प्रा. लि. के दीपांश यादव ने बताया कि आज एयर पॉल्युशन और स्मॉग स्वास्थय चिंता का एक महत्वपूर्ण विषय बन गया है। हमने भारत का पहला आउटडोर व इनडोर स्पेस एयर-प्यूरीफायर विकसित किया है जिसमें 1300 वर्ग मीटर तक की क्षमता वाले क्षेत्र में प्रदूषण को 85 प्रतिशत तक कम करने में सक्षम है। अट्रम शट्रम के को-फाउंडर, अवनीश भट्नागर ने हैल्दी स्नैकिंग पैकेजिंग के बारें में बताया कि सीड्स, नट्स, बैरीज़ आदि अशुद्ध कंटेनर में पैक किये जाते है इसलिए यह कुछ समय के बाद अन-हैल्दी व खराब हो जाते है। इस समस्या को दूर करने के लिए अट्रम शट्रम ने 52 प्रोडक्ट्स लॉन्च किये है जो छोटे ग्लास जार में पैक किये जाते है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *