श्रीश्याम रसोई में लगभग 50 परिवार दे रहे है हर घर से पांच पांच रोटियों की सेवा

हनुमानगढ, 5 अप्रैल (एजेन्सी)। श्री हनुमान जल कल्याण समिति द्वारा आमजन की सहायता के लिये शुरू की गई श्रीश्याम रसोई में रोजाना सुबह व शाम दोनो समय 1100-1100 लोगों के भोजन की व्यवस्था निरन्तर जारी है। श्रीश्याम रसोई के अध्यक्ष व पार्षद सुमित रणवां की प्ररेणा से प्रेरित होकर वार्डवासियों द्वारा अनुठी पहल करते हुए वार्ड के लगभग 50 परिवारों द्वारा सुबह शाम दोनों समय अपने घर से पांच पांच रोटियां देने का निर्णय लिया। ज्ञात रहे कि इस रसोई का संचालन नेकी की रसोई के अध्यक्ष गणेशराज बंसल के सहयोग से किया जा रहा है। अध्यक्ष सुमित रणवां ने बताया कि कोरोना महामारी के चलते लगे लॉकडाउन में गरीब व जरूरतमंदों के लिये दो समय के भोजन की व्यवस्था करने के लिए 29 मार्च से निरन्तर वार्डवासियों के सहयोग से श्रीश्याम रसोई का संचालन किया जा रहा है।
उन्होने बताया कि इस रसोई में सफाई व्यवस्था का पूर्ण ध्यान रखते हुए सेनेटाईजर व मास्क का प्रयोग किया जा रहा है। उन्होने बताया कि इस रसोई की व्यवस्था के लिये अलग अलग टीमें बनाई गई है जिसमें से एक टीम सब्जी बनाती है तो एक महिलाओं की टीम रोटियां बनाती है और अन्य टीमे भोजन पैक करने व वितरित करने का कार्य कर रही है। उन्होने बताया कि इस रसोई में सुबह व शाम कुल 8000 से 8500 रोटियां बनती है जिसमें से 3600 रोटियां वार्डवासी अपने अपने घरों से देते है व बाकी रोटिया श्रीश्याम मन्दिर में बनाई जा रही है। उन्होने बताया कि लोगों ने स्वेच्छा से आमजन केे सहयोग के लिये श्रीश्याम रसोई में रोटियां बनाकर देने की जिम्मेवारी उठाई है। उन्होने बताया कि रोटियां तैयार होने के बाद पैक कर गुरप्रीत सिंह मान की देखरेख में श्रीश्याम रसोई की टीम ग्राम पंचायत 2केएनजे की आईटीआई बस्ती, वार्ड 8, वार्ड 13 व वार्ड 14 सहित कच्ची बस्तियों में भोजन का वितरण करती है। उन्होने बताया कि नगरपरिषद सभापति गणेशराज बंसल के निर्देशानुसार इस ऐरिये में भोजन वितरण की जिम्मेवारी ली गई है। उन्होने बताया कि हनुमानगढ़ की यह पहली रसोई है जिसमें दो समय गर्मागर्म भोजन बनाकर आमजन में वितरण किया जा रहा है। उन्होने बताया कि इस रसोई में वार्डवासी अपनी अपनी सेवा दे रहे है। यह सेवा जब तक लॉकडाउन लगा रहेगा तब तक जारी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *