नोटबंदी के बाद ईडी ने 9000 करोड़ से अधिक रुपये किये जब्त

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कहा कि उसने नोटबंदी के बाद से 9000 करोड़ से अधिक कालाधन जब्त किया है। साथ ही फेमा और मनी लांड्रिंग के तहत 3500 से अधिक मामले दर्ज किए हैं।वित्तीय जांच एजेंसी ने अपने ताजा बयान में गुरुवार को कहा कि नवंबर 2016 और सितंबर 2017 के बीच ईडी ने विदेशी मुद्रा अधिनियम (फेमा) के तहत 266 जगहों पर छापे मारे थे और प्रिवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत 354 स्थानों पर छापेमारी की थी।पिछले एक साल में फेमा के तहत 3567 केस दर्ज हुए और पीएमएलए के तहत 191 मामले दर्ज किए गए। एजेंसी ने एक साल में 700 लोगों को कारण बताओ नोटिस जारी किया और 54 लोगों को गिरफ्तार किया।जांच के दौरान ईडी ने पाया कि ज्यादातर वित्तीय संस्थाओं ने मुखौटा कंपनियों और रियल स्टेट के चलते धांधली की। यहां तक कि रियल स्टेट में भी इन वित्तीय संगठनों के जरिए ही पैसा आने लगा है। इसीतरह बहुत सारे कालेधन का निवेश सोने और रियल स्टेट में किया गया था।बहुत से लोगों ने नोटबंदी के दौरान पुराने 1000 और 500 के नोटों को नए नोटों से बदलने के लिए बड़े पैमाने पर बैंक अधिकारियों को रिश्वत दी थी। कई लोगों ने अपने निवेश को बचाने के लिए सीए की मदद ली तो कई लोगों ने काले धन को खपाने के लिए सोने के बांड और जेवरों में निवेश किया। जबकि कुछ लोगों ने विदेशी में मुद्रा में हवाला के जरिए निवेश किया।हवाई अड्डों पर जब्त हुआ 87 करोड़ रुपया- देश के हवाई अड्डों पर सीआइएसएफ ने नोटबंदी के समय से एक साल में 87 करोड़ रुपये से अधिक का अवैध नकद, 2600 किलोग्राम सोना और अन्य कीमती धातुओं को जब्त किया है। 59 नागरिक हवाई अड्डों की सुरक्षा की जिम्मेदारी वाले सीआइएसएफ के जारी ताजा आंकड़े के अनुसार अब तक सबसे अधिक नकद (करीब 33 करोड़ से अधिक रुपये) मुंबई एयरपोर्ट से जब्त किए गए हैं।जबकि दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से सर्वाधिक सोना (करीब 498 किलोग्राम) पकड़ा गया है। जयपुर हवाई अड्डे से सर्वाधिक चांदी (करीब 266 किलो) जब्त की जा चुकी है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *