युवक को बांधकर जीवित इन्दिरा नहर में फेंका

तीन हफ्तों बाद सड़ी-गली हालत में मिली लाश

श्रीगंगानगर, 22 नवम्बर (का.सं.)। अपने पड़ोस में विवाहित एक युवती के साथ अवैध सम्बंध के चलते एक युवक को बांधकर जिंदा ही इन्दिरा गांधी नहर में फेंक दिया गया। लगभग तीन सप्ताह से गायब इस युवक की लाश गुुरुवार को जैसलमेर जिले में नाचना थाना क्षेत्र में इन्दिरा गांधी नहर की आरडी 1260 पर तैरते हुए मिली, जब पुलिस और मृतक के परिवार वाले ढूंढते हुए वहां पहुंचेे। इस युवक की हत्या करने के आरोप में युवती, उसके पति, भाई और पीहर गांव के पड़ोसी युवक पर षडय़ंत्रपूर्वक अपहरण का मुकदमा दर्ज किया गया था, जो अब हत्या में तब्दील हो गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बीकानेर जिले में खाजूवाला थाना क्षेत्र में चक 8 केवाईडी निवासी मनफूलराम मेघवाल (22) विगत 31 अक्टूबर को लापता हो गया था। उसके भाई ने 4 नवम्बर को गुमशुदगी दर्ज करवाई। 15 दिन से पुलिस मनफूलराम की तलाश करने में लगी थी। इस दौरान पता चला कि मनफूलराम के उसके पड़ोस में रहने वाले ओमप्रकाश की पत्नी कांता के साथ कथित रूप से अवैध सम्बंध है।श्रीगंगानगर जिले में घड़साना क्षेत्र में चक 4 एमडी निवासी कांता की शादी कुछ ही समय पहले चक 8 केवाईडी में ओमप्रकाश से हुई है। इन दोनों में कथित रूप से नाजायज सम्बंध हो गये थे, जिसकी भनक उसके पति और पीहर वालों को हो गई। पुलिस के अनुसार यह जानकारी मिलने पर जांच ओमप्रकाश पर केन्द्रीत हो गई। सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने ओमप्रकाश को काबू कर पूछताछ की, जिसके बाद उसके साले राकेश और राकेश के पड़ोसी रमेश को भी उठा लिया गया। इनसे पूछताछ में ही खुलासा हुआ कि 31 अक्टूबर को इन तीनों ने मनफूलराम को किसी बहाने से अनूपगढ़ थाना क्षेत्र के गांव पतरोड़ा में बुलाया। वही से उसे मोटरसाइकिल पर इन्दिरा गांधी नहर की बुर्जी संख्या 559 पर ले गये। वहां पर मनफूलराम के हाथ-पांव बांधकर उसे जीवित ही इन्दिरा गांधी नहर में फेंक दिया। जानकारी के अनुसार तब से परिवार वाले मनफूलराम की नहरों में ही तलाश कर रहे थे। मनफूल को नहर में फेंक दिये जाने की जानकारी आने पर उसके पिता कोझाराम द्वारा दी गई रिपोर्ट के आधार पर कल शाम को ओमप्रकाश, राकेश, रमेश व कांता पर षडय़ंत्रपूर्वक अपहरण का मुकदमा दर्ज कर लिया गया। खाजूवाला थाना में सब इंस्पेक्टर शंकरलाल ने बताया कि आज सुबह सूचना मिली कि नाचना के पास 1260 आरडी पर एक लाश तैर रही है। इस पर वे घटनास्थल के लिए रवाना हो गये। परिवारजन भी वहां पहुंच गये। लाश को बाहर निकाला गया, तो उसके फटे हुए कपड़े, बैल्ट और अंडरवियर पहना हुआ था। लगभग 22 दिन नहर में शव तैरते रहने के कारण बुरी तरह सड़-गल गया था। कपड़ों के आधार पर उसकी शिनाख्त हुई। तत्पश्चात् लाश को पोस्टमार्टम के लिए देर शाम खाजूवाला के सरकारी अस्पताल में लाया गया। पुलिस ने आरोपितों को राउंडअप किया हुआ है। इनकी गिरफ्तारी शीघ्र सम्भावित है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *