‘आप अक्षय सर से बहुत कुछ सीख सकते हैं: दिव्येंदु शर्मा

दिल्ली के इस लड़के की जिंदगी ने दिलचस्प मोड लिया जब दिव्येंदु शर्मा को सरप्राइज बॉक्स ऑफिस हिट प्यार का पंचनामा में लिक्विड के रूप में बड़ा ब्रेक मिला। तब से उसने पीछे मुडकर नहीं देखा। उसकी अभी हाल की सफलता एक और सुपरहिट टॉयलेट: एक प्रेम कथा रही। इस फिल्म में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान का समर्थन किया गया है तो दिव्येंदु शर्मा को भी नारू के किरदार के लिए सराहना मिली। नारू इस फिल्म में अक्षय कुमार का भाई है। जी सिनेमा पर टॉयलेट: एक प्रेम कथा के वल्र्ड सैटेलाइट टेलीविजन प्रीमियर से पहले इस युवा अभिनेता ने फिल्म के बारे और इसके सोशल मैसेज के बारे में बात की। उन्होंने अक्षय कुमार के साथ काम करने के बारे में अपने अनुभव और अपने भावी प्रोजेक्ट्स के बारे में भी बात की। जी सिनेमा स्वच्छ भारत अभियान की तीसरी वर्षगांठ पर टॉयलेट: एक प्रेम कथा का प्रसारण करेगा।
इसके बारे में आप कैसा महसूस करते हैं?
मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा है यार। ईमानदारी से कहूँ तो इतनी बड़ी चीज के साथ जुडऩा, किसी भी तरह बड़े काम में योगदान करना और खासतौर से यदि आप उसे फिल्म के जरिए कर सकते हों। क्योंकि आप तो जानते हैं, ज्यादातर भारतीय फिल्में देखना पसंद करते हैं इसलिए संदेश मनोरंजन भी कर सकता है और साथ ही वह पूरी जनता तक पहुंचता है। तो, हाँ, मैं खुद को खुशकिस्मत महसूस करता हूँ कि मैं इतने बड़े अभियान का हिस्सा बना। कहते हैं कि यह फिल्म क्लीन इंडिया के हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन के अनुरूप उदाहरण है।
इस सपने को सच करने के लिए लोगों को क्या कदम उठाने चाहिए ?
मुझे लगता है कि पहला कदम यह जानना चाहिए कि यह बहुत बड़ी समस्या है जिसका हम सामना कर रहे हैं। इस समस्या को समझना बहुत बड़ी बात है। दूसरी बात, आप जानते हैं कि यह एक ऐसी बात है जो महिलाओं के आत्मसम्मान से जुड़ा है। उनके लिए स्वच्छ शौचालय होना बहुत महत्वपूर्ण है। इसलिए, हमें उनके लिए साफ और बेहतर शौचालय बनाने चाहिए। बस मैं यही सोचता हूं। लोगों को सहानुभूति प्रकट करने और इस बात को समझने की जरूरत है। आप जानते हैं कि यह लग्जरी नहीं है, यह तो जरूरत है। इसलिए फिल्म टॉयलट: एक प्रेम कथा की शूटिंग के दौरान, हमें पता चला कि हमारे भारत में 50 प्रतिशत से अधिक लोग खुले में शौच करते हैं। यह बहुत चिंताजनक बात है। मुझे उम्मीद है सभी को यह अहसास होना चाहिए कि यह एक बहुत बड़ी समस्या है जिसका सामना हम कर रहे हैं और हमें इसके लिए सही कदम उठाना चाहिए।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *