नई एफडीआई पॉलिसी का असर, ऐमजॉन ने भारतीय ग्लोबल स्टोर से लगभग सारे प्रॉडक्ट्स हटाए

 

बेंगलुरु। अब ऐमजॉन पर ग्लोबल स्टोर से सीधे अमेरिका से किसी भी सामान की खरीदना मुश्किल हो गया है। ऐसा एफडीआई के नए नियम की वजह से हुआ है, यह नियम पिछले महीने लागू किए गए हैं। ग्लोबल स्टोर को 2016 में लॉन्च किया था, लेकिन अब एफडीआई के नए नियम की वजह से इसका अस्तित्व संकट में है। इस प्लैटफॉर्म पर उपलब्ध सामानों में काफी तेजी से गिरावट देखी जा रही है। ऐमजॉन एक्सपोर्ट्स सेल्स एलएलसी इस ग्लोबल स्टोर का संचालन करता है। इसपर फरवरी से पहले कम से कम 60 लाख प्रॉडक्ट्स उपलब्ध थे, लेकिन पिछले महीने लागू हुए नए नियम की वजह से फरवरी में इनकी संख्या केवल 6000 ही रह गई। ऑनलाइन मार्केटप्लेस डेटा की जानकारी रखने वाले मार्केटप्लेस पल्स ने इसकी जानकारी दी है। मामले की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने बताया, ‘कंपनी की तरफ से जल्दबाजी भारत के बिजनस को बचाने की थी। पिछले कुछ हफ्तों में ग्लोबल स्टोर एक तरह से अस्तित्व में नहीं है। एफडीआई का नया नियम किसी मार्केटप्लेस का इक्विटी इंटरेस्ट रखने वाले सेलर को उसी प्लैटफॉर्म पर सामानों की बिक्री से रोकता है। इस वजह से पिछले महीने ऐमजॉन को अपनी सेलर फर्म्स क्लाउडटेल और अप्पारियो में स्टेक कम करना पड़ा था। ऐमजॉन की प्रवक्ता की तरफ से नहीं दिया गया है। चीन और मैक्सिको के बाद ऐमजॉन द्वारा अमेरिका से सीधे सामान खरीदने की सुविधा वाला भारत तीसरा देश है। पिछले सालों में भारतीय उपभोक्ताओं ने अमेरिका में चलने वाले ‘ब्लैक फ्राइडे’ समेत अन्य सेल्स पर जमकर खरीदारी की थी। इसके लिए एक अलग पेज ऐमजॉन ने भारतीय उपभोक्ताओं के लिए बनाया था, टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार अब यह पेज मौजूद नहीं है। हालांकि ऐमजॉन की अमेरिकी साइट से सामान अब भी खरीदे जा सकते हैं, लेकिन इसके लिए पेमेंट का तरीके समेत कई तरह की पाबंदियां है। ग्लोबल स्टोर ने भारतीय खरीदारों को स्थानीय करंसी में शॉपिंग करने का ऑप्शन दिया था। नई एफडीआई पॉलिसी का एक और नियम ऐमजॉन जैसी कंपनियों के लिए मुश्किल खड़ी करने वाला है, इसके अनुसार हर सेलर को भारत में रजिस्टर कराना जरूरी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *