मेरे पास अपने पीछे छोडऩे लायक कोई विरासत नहीं है-

 

अमिताभ बच्चनदुनिया उन्हें बॉलीवुड के शहंशाह के रूप में जानती है लेकिन वह चाहते हैं लोग उन्हें प्रख्यात कवि हरिवंश राय बच्चन के बेटे के रूप में पहचानें। हम बात मेगास्टार अमिताभ बच्चन की कर रहे हैं। बॉलिवुड को ब्लॉकबस्टर फिल्मों का खजाना देने वाले अमिताभ का कहना है कि उनके पास अपने पीछे छोडऩे के लिए कोई विरासत नहीं है। शहंशाह के रूप में पिछले चार दशक से ज्यादा समय तक बॉलीवुड पर अपना दबदबा बनाए रखने वाले अमिताभ कहते हैं कि उनके पिता की सार्वजनिक जीवन में मौजूदगी उनसे कहीं ज्यादा थी। अभिताभ बच्चन ने कहा, ‘जहां तक मेरे व्यक्तिगत सरोकार की बात है तो मैं तकरीबन 50 साल से पब्लिक लाइफ में हूं। मगर प्रख्यात कवि हरिवंश राय बच्चन के बेटे के रूप में मैं जन्म से ही सार्वजनिक जीवन में हूं क्योंकि उनकी शख्सियत मुझसे अधिक बड़ी थी।उन्होंने कहा, ‘मेरी अपनी कोई विरासत नहीं है। मेरे पास मेरे पिता की विरासत है जिसे संजोने में ही मेरी दिलचस्पी है और आगे भी संभाले रखूंगा। अमिताभ अपने पिता के साथ जुड़ाव को लेकर अपनी भावनाओं को अपने ब्लॉग में भी लिखते रहते हैं। इससे पहले उन्होंने कॉपीराइट कानून की शर्तों को लेकर अपनी नाराजगी जताई थी, जिसके तहत लेखक के निधन के बाद केवल 60 साल तक मूल रचना का विशिष्ट अधिकार उनके वारिसों के पास हो सकता है। 75 साल के अमिताभ अपने पिता की कविताओं का पाठ करने में काफी दिलचस्पी रखते हैं। खासतौर से ‘मधुशाला की पंक्तियां वह अक्सर पब्लिक इवेंट्स में पढ़ते रहते हैं। अमिताभ अपने पिता से मिली शिक्षाओं को आगे अपने बेटे अभिषेक बच्चन को देना चाहते हैं। बिग बी ने कहा, ‘पिता के साथ बिताए लम्हे और उनकी यादें व्यक्तिगत हैं। लेकिन उनसे मिली शिक्षाएं निश्चित रूप से अभिषेक को सौपेंगे।दादा की शिक्षा पोते-पोतियों तक पहुंचाने के बारे पूछे गए एक सवाल पर अमिताभ ने कहा, ‘यह सब पारिवारिक परिस्थितियों के अनुकूल होता है। हर परिवार का अपना आचार-व्यवहार होता है जिसका अनुपालन इस प्रकार किया जाता है कि अगली पीढ़ी अतीत की विरासत को संजोए रखे। हर कोई चाहता है कि उनके बच्चे इस मनोभाव को बनाए रखें।अमिताभ के साथ चाहकर भी काम नहीं कर पाए सत्यजीत रे -अमिताभ ने फिल्म सात हिंदुस्तानी से पर्दे पर अपने सफर की शुरुआत की थी। हालांकि 1973 में रिलीज हुई फिल्म जंजीर से उन्हें काफी शोहरत मिली और फिर उनकी फिल्म दीवार, डॉन, शोले, शहंशाह ने उन्हें शिखर पर पहुंचाया। शुक्रवार को उनकी फिल्म ‘102 नॉट आउट रिलीज हुई है। इसमें वह 102 साल के बुजुर्ग का किरदार निभा रहे हैं जिसकी इच्छा दुनिया के सबसे उम्रदराज व्यक्ति का रेकॉर्ड तोडऩा है। फिल्म में उनके साथ ऋषि कपूर भी हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *