अब बैंकों को लेना पड़ेंगे सिक्के, आरबीआई ने जारी की एडवायजरी

 

नई दिल्ली। अगर आपको भी कभी बैंक ने सिक्के जमा करने से इन्कार कर दिया है तो अब ऐसा नहीं हो पाएगा। अब बैंकों को ग्राहक द्वारा लाए गए सिक्के जमा करने होंगे। इसके लिए रिजर्व बैंक ने एक एडवायजरी जारी की है जिसमें बैंकों को सिक्का मेला लगाने के लिए कहा गया है। रिजर्व बैंक की इस एडवाजरी के बाद करोड़ों के सिक्कों के बोझ तले दबे देश भर के बाजारों को राहत मिलने के आसार हैं। रिजर्व बैंक की एडवायजरी के अनुसार बैंक शाखा स्तर पर लगने वाले इस मेले में न केवल खाताधारकों के पास इक हुए सिक्का जमा किए जाएंगे बल्कि उन्हें बाजार में सिक्कों की जरूरत और अहमियत भी बताई जाएगी। बैंक सिक्का जमा करने में परेशानी अनुभव न करें, इसके लिए करेंसी चेस्ट के मुख्य प्रबंधकों को भी निर्देशित किया गया है कि वे शाखाओं से सिक्के लें। नोटबंदी के दौरान उत्पन्न नकदी संकट से निपटने के लिए बैंकों ने अपनी शाखाओं के जरिये खाताधारकों को सिक्कों में भी भुगतान किया था। कुछ समय तक बाजार में सिक्कों में भुगतान होता रहा। ऐसे में कारोबारियों ने भी सिक्के लिए। दिक्कत तब शुरू हुई जब बैंकों ने इन सिक्कों को जमा करने से मना कर दिया। इसका असर यह हुआ है कि कारोबारियों ने बाजार से सिक्के लेने से मना कर दिया और छोटे दुकानदारों, एजेंसियों के पास सिक्के जमा होने लगे। इससे करोड़ों रुपये की कार्यशील पूंजी फंसी और कारोबार में नुकसान की स्थिति आने लगी। कारोबारियों ने कई बार सिक्का प्रबंधन को लेकर सवाल उठाए और आरबीआइ के क्षेत्रीय कार्यालय पर प्रदर्शन भी किया। इस दौरान आरबीआइ ने गाइडलाइन जारी की। जिलाधिकारी ने बैंकों के साथ बैठक कर सिक्का जमा करने के लिए भी कहा। इस पर बैंकों ने एक हजार रुपये तक के सिक्के लेने पर हामी भरी। थोड़े बहुत सिक्के जमा हुए लेकिन करेंसी चेस्टों ने बैंक शाखाओं से सिक्के लेने से मना कर दिया। कहा, सिक्के वापस लेने का कोई नियम है। इस पर बैंक भी सिक्के लेने में आनाकानी करने लगे और स्थिति बिगडऩे लगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *