पतंग उड़ाते समय सावधानी बरतें, सुरक्षित व निर्बाध बिजली आपूर्ति में सहयोग करें- मिश्रा

जयपुर, 10 जनवरी (का.सं.)। मकर संक्राति पर पतंग उडाते समय छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर विद्युत संबंधी किसी भी संभावित दुर्घटना से बचा जा सकता है एवं विद्युत आपूर्ति में बाधा को भी रोका जा सकता है। इससे बिजली की सुरक्षित एवं निर्बाध आपूर्ति के साथ ही पतंगबाजी से होने वाली संभावित दुर्घटनाओं से भी बचा जा सकेगा। जयपुर नगर वृृत के अधीक्षण अभियन्ता जे.के.मिश्रा ने बताया कि एल्यूमिनियम फॉयल (धातु) से बनी हुई पतंग एवं मेटल पाउडर कोटेड मांझे का उपयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि ये विद्युत चालक का कार्य करते है और विद्युत दुर्घटना की दृष्टि से बहुत खतरनाक है। मेटल पाउडर से बना मांझा बिजली के तारों में उलझने से हाई वॉल्टेज का खतरा भी होता है, जिससे विद्युत उपकरण को क्षति पहुंचने का खतरा रहता है।उन्होंने बताया कि मकानों के पास से गुजर रही बिजली की लाईनों के आसपास पतंग उड़ाते समय विशेष ध्यान व सावधानी बरतनी चाहिए और यदि बिजली के तारों या उपकरणों में पतंग या डोर फॅस जाए तो उसे खींचकर अथवा धातु की छड़ आदि से छुड़ाने का प्रयास नही करना चाहिए। असामान्य परिस्थितियों हेतु अपने प्रतिष्ठान/निवास की वायरिंग एवं विद्युत उपकरणों की सुरक्षा हेतु भारतीय विद्युत नियमों के अनुसार उचित रेटिंग की इएलसीबी एवं एमसीबी का उपयोग करना चाहिए। मकर संक्राति पर विद्युत आपूर्ति में व्यवधान संबंधी शिकायतों के निवारण हेतु जयपुर शहर के उपभोक्ता अपनी शिकायतें कॉल सेन्टर के टेलीफोन नंबर 0141-2203000 एवं टोल फ्री नम्बर 1800-180-6507 पर दर्ज करा सकते है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *