मुख्यमंत्री के विरोध में रास्ता जाम किया वृन्दावन वासियों ने

मथुरा, 7 अक्टूबर (एजेेंसी)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के विरोध में वृन्दावन के स्थानीय निवासियों ने रास्ता जाम कर दिया। वे सभी यमुना के डूब क्षेत्र में बने मकानों को राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के आदेश पर तोड़े जाने का विरोध कर रहे थे। शुक्रवार को जब मुख्यमंत्री विजय कौशल के आश्रम से निकलकर फ्लीट सहित हैलीपेड की ओर रवाना हुए, वैसे ही पहले तो तोड़-फोड़ अभियान से पीडि़त सैंकड़ों लोगों ने उनके काफिले को रोकने का प्रयास किया। पुलिस ने जब उन्हें ऐसा करने से रोक दिया तब निकलते ही बाकी एक सैंकड़े वाहनों को वहां से निकलने नहीं दिया। वे सभी मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी सरकार विरोधी नारे लगा रहे थे। जाम में फंसने वालों में परमशक्ति पीठ की मुखिया एवं वात्सल्य ग्राम संस्था संचालक साध्वी ऋतम्भरा भी शामिल थीं। उन्हें इस बात का भी बड़ा मलाल था कि जब वे लोग अपना दुखड़ा लेकर उनके पास तक पहुंचे तो सुरक्षाकर्मियों ने पहले तो उन लोगों में से पांच लोगों को मुख्यमंत्री से मिलवाने के लिए बैठा लिया और जब मुख्यमंत्री मंच से नीचे उतरकर चले तो उनसे बात भी नहीं कराई। जाम लगाने वाले लोगों का साथ दे रहे राष्ट्रीय लोकदल के जिलाध्यक्ष कुंवर नरेंद्र सिंह, गौरव मलिक एवं ताराचंद गोस्वामी आदि ने आरोप लगाया कि स्पष्ट रूप से यमुना के डूब क्षेत्र में बने जिस आश्रम को तोड़े जाने के आदेश वर्षों पूर्व दिए जा चुके हैं, मुख्यमंत्री आज उसके कार्यक्रम में सम्मिलित होकर अप्रत्यक्ष रूप से उसके खिलाफ कोई कार्यवाही न किए जाने का संदेश दे गए हैं। घटना की जानकारी मिलने पर अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) रविंद्र कुमार ने मौके पर पहुंचकर लोगों को आश्वस्त किया कि मुख्यमंत्री ने एनजीटी के आदेश की समीक्षा कर स्वयं इस समस्या का कोई न कोई हल निकलवाने का आश्वासन दिया है तो वे उन पर भरोसा करें। इसके बाद लोगों ने जाम खोल दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *