युवा पीढ़ी के लिये घातक “BLUE WHALE” गेम की रोकथाम के लिये जागरूकता अभियान चलाया जाये- महानिदेशक पुलिस

जयपुर, 7 सितम्बर (कासं)। महानिदेशक पुलिस अजीत सिंह ने जानकारी में आये प्रदेश में कुछ Blue whale game मामलों पर चिंता व्यक्त करते हुए प्रदेश के सभी पुलिस अधीक्षकों को दिशा निर्देश जारी किये हैं कि वे युवा पीढ़ी के लिये घातक साबित हो रहे Blue whale game की रोकथाम के लिये शिक्षा विभाग अधिकारियों व स्वयं सेवी संस्थाओं के माध्यम से स्कूलों एवं कॉलेजों में व्यापक जागरूकता अभियान चलायें। सिंह ने हाल ही Blue whale game के शिकार होकर आत्महत्या जैसा घृणित कदम उठाने के लिये मजबूर हुए मामले को गंभीरता से लेते हुए जिला पुलिस अधीक्षकों को थाना क्षेत्र में आने वाले सभी विद्यालयों एवं महाविद्यालयों में विद्यार्थियों, अध्यापकों, अभिभावकों में इस खेल के होने वाले दुष्प्रभावों से युवक युवतियां कैसे बचे रहें, के बारे में एक-एक घंटे के गहन आमुखीकरण कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश दिये हैं।महानिदेशक पुलिस ने कहा कि इन कार्यक्रमों से युवक युवतियों के साथ-साथ उनके अभिभावक भी आवश्यक सतर्कता बरत सके इसके लिये जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी के माध्यम से विभिन्न मनोवैज्ञानिक सलाहकारों व जीवन के प्रति सकारात्मक सोच विकसित करने वाले मोटिवेटर्स की सेवाएं भी ली जायेंं। सिंह ने प्रदेश के समस्त नागरिकों से अपील की है कि वे अपने बच्चों के साथ दोस्ताना व्यवहार रखते हुए उनकी व्यक्तिगत समस्याओं को सुलझाने में सहयोग करें। उनके व्यवहार एवं गतिविधियों में आये बदलाव पर नजर रखें ताकि वे अनायास ही इस साइबर क्राइम (ब्ल्यू व्हेल गेम) के शिकार होने से बच सकें। अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस अपराध पंकज कुमार सिंह ने बताया कि ब्ल्यू व्हेल गेम साइबर क्राइम का ही एक विकसित रूप है, जो युवक-युवतियों के लिये प्राणघातक साबित हो रहा है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में जोधपुर आयुक्तालय के थाना क्षेत्र राजीव गांधी नगर व जयपुर आयुक्तालय के करणी विहार थाना क्षेत्र में एक युवक व युवती Blue whale game की शिकार होने की सूचना मिली है। पुलिस ने दोनों को सर्च आउट कर उनके परिजनों को सौंप दिया है।सिंह ने बताया कि केन्द्र सरकार की साईबर अपराध से सम्बन्धित संस्था CERT भी Blue whale game जैसे मामलों के अनुसंधान में निरंतर सहयोग प्रदान कर रही है। उन्होंने बताया कि  Blue whale game  की रोकथाम के लिये विभाग की साइबर सेल को अलर्ट कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि गाइड लाइन को स्कूलों में प्रचारित किया जा रहा है। अतिरिक्त महानिदेशक अपराध ने बताया कि युवक युवतियों द्वारा काम में लिये गये उपकरणों को प्राप्त कर उनका विश्लेषण करवाया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *