सबसे बड़े उत्पादक देश के रुप में उभरता भारत-राठौड़

जयपुर, 6 जनवरी (कासं.)। केन्द्रीय खेल एवं सूचना प्रसारण मंत्री राज्यवद्र्धन सिंह राठौड़ ने कहा है कि दुनिया के सबसे बड़े उपभोक्ता देश के साथ ही अब भारत को सबसे बड़े उत्पादक देश के रुप में सामने लाने की दिशा में आगे बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि युवाओं को सरकारी नौकरी की और देखने की जगह रोजगार उत्पादक उद्यमी बनाने की दिशा में कदम बढ़ाए जा रहे हैं। राठौड़़ शनिवार को सीतापुरा में इण्डिया इन्डस्ट्रीयल फेयर के दूसरे दिन राइट इको सिस्टम फोर एक्स्ट आरडेनरी ग्रोथ ऑफ एमएसएमई विषय पर आयोजित तकनीकी स़त्र को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि विश्व इकोनोमी में मंदी के दौर के बावजूद दुनिया के देशों में भारतीय अर्थव्यवस्था को सशक्त इकोनोमी के रुप में देखा जा रहा है। विदेशों में भारतीय संस्कृति और विरासत को सकारात्मक ताकत के रुप में लिया जा रहा हैं। उएन्होंने कहा कि आज दुनिया के देशों में भारत बराबरी व इज्ज्त से देखा जा रहा है। सूचना प्रसारण मंत्री राठौड़ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सोच और पहल का परिणाम है कि देश में मुद्रा जैसी योजनाओं से युवाओं को जोड़कर एन्टरप्रोन्योर बनाया जा रहा है।उन्होंने कहा कि आईटी बेस लोनिंग व्यवस्था से पारदर्शिता आई है। सबसे खास यह कि देश पारदर्शिता की और बढा है। केन्द्रीय एमएमएसई सचिव अरुण पाण्डया ने कहा कि देश में सूक्ष्म, लघु और मण्ध्यम उद्योगों को अनौपचारिक क्षेत्र से औपचारिक क्षेत्र में लाना बड़ी उपलब्धियों में से एक है।उन्होंने कहा कि यह क्षेत्र चरखे से लेकर न्यूक्लियर पॉवर, एरोस्पेस, तेजस फायटर जैसी बड़ी से बड़ी इण्डस्ट्रीज में बराबर का भागीदार बन रहा है। पाण्डया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का बल प्रदेशों में इज ऑफ डूइंग के माध्यम से उद्योगों को सेवाएं उपलब्ध हो। उद्यमी को कहीं जाना नहीं पड़े और ऑनलाइन सारे काम हो। उन्होंने बताया कि यूएएएम के माघ्यम से उद्योगों का पंजीकरण हो रहा है। उद्योग आयुक्त कुंजी लाल मीणा ने पीएमईजीपी और बीएसआरवाई की चर्चा करते हुए कहा कि दोनों योजनाओं से युवाअेां को जोडऩे के लिए ऋण सुविधा बढ़ाने के साथ ही भामाशाह रोजगार योजना में ब्याज अनुदान को चार प्रतिशत से बढ़ाकर 8 प्रतिशत किया गया है। मीणा ने राज्य सरकार द्वारा एमएसएमई व उद्योग सेक्टर में राज्य सरकार की योजनाओं व सुविधाओं की जानकारी दी।वित सचिव प्रवीण गुप्ता ने बताया कि राज्य में कौशल विकास के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्यकर पहचान बनाई है। तकनीकी सत्र में आर्थिक विशेषज्ञ भगवती प्रसाद, सीजीएम मरुधरा ग्रामीण बैंक, एसपी माली, सिडबी के महाप्रबंधक विवेक मल्होत्रा व सत्र संयोजक ओपी मित्तल ने भी विचार व्यक्त किए। सत्र मोडरेटर रघु विश्वनाथ थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *