सावधान ! सस्ती मेहंदी व मेडिकेटेड साबुन से हो सकता है चर्म रोग

सस्ती मेहंदी और बिना डॉक्टर के सलाह के मेडिकेटेड साबुन लगाने से त्वचा में दाग, छांही, खुजली आदि की समस्या बढ़ सकती है। बाजार में मिल रही सभी प्रकार की मेहंदी में रसायन मिले होते हैं। इसे लगाने पर सिर की त्वचा के साथ-साथ गाल, गले पर भी संक्रमण व एलर्जी हो सकती है तथा बालों के लिए भी यह समस्या खड़ी कर सकती है। ये सलाह पीएमसीएच के चर्म एवं सौंदर्य रोग विशेषज्ञ डॉ. विकास शंकर ने हिन्दुस्तान के पाठकों को फोन पर दी। डॉक्टर की सलाह कार्यक्रम में वे रविवार को हिन्दुस्तान कार्यालय में थे। उन्होंने बताया कि मेडिकेटेड साबुन शरीर को फायदा पहुंचानेवाले कीटाणुओं को भी खत्म कर देते हैं। स्केबीज का समय पर इलाज न हो तो किडनी की भी बीमारी हो सकती है। दिनाई आदि की दवा स्वयं न करें। दवा दुकान से स्टेरॉयडयुक्त क्रीम लेकर लगाने से बीमारी बढ़ सकती है। छांही में सूर्य और एलईडी, सीएफएल की रोशनी व मोबाइल की अल्ट्रा वायलेट तरंगों से बचना चाहिए। बाजार का मिक्स क्रीम न लगाएं। बचाव के लिए 50 एसपीएफ का सनस्क्रीन लोशन या क्रीम लगा सकते हैं। पाठकों के पूछे सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि सिरोसिस, बाल झडऩा, संपर्क से होनेवाली खुजली आदि का सफल इलाज है। ऐसा होने पर तुरंत चिकित्सक से सलाह लें। कहा कि टैटू गुदवाते समय सावधानी नहीं बरती गई तो हेपेटाइटिस से लेकर एचआईवी से पीडि़त होने की आशंका होती है। दूसरे टैटू एक बार गुदा गया तो सेना और पुलिस की नौकरी नहीं मिलती। टैटू हट सकता है यदि वह डीप निडल से न हुआ हो।
सवाल : चार साल से सिरोसिस है। दवा खाने पर ठीक होता है। छोडऩे पर फिर हो जाता है। (सौरभ, मधेपुरा)
सलाह: सिरोसिस कैसा है, इसका इलाज देखने पर ही होगा। शरीर की साफ-सफाई का ख्याल रखें।
सवाल: ठंड के मौसम में चेहरे पर छांही बढ़ जाती है, चेहरा काला हो जाता है। (राजू सिंह बक्सर, रीता देवी वैशाली व आशीष पटना)
सलाह : छांही होने पर दवा दुकानों से स्टेरॉयड मिली दवा का इस्तेमाल न करें। कोई भी रासायन चहरे पर न लगाएं। धूप में निकलने से बचें। बचाव के लिए 50 एसपीएफ वाला सनस्क्रीन लोशन या क्रीम लगाएं। विशेषज्ञ चिकित्सक से सलाह लें।
सवाल: बाल तेजी से झड़ रहे हैं। बाल की मोटाई और घनापन कम हो रहा है। आंखों की पपनी भी झड़ रही है। (विकास पटना, मदन कुमार बेगुसराय, मनोज मुजफ्फरपुर)
सलाह : प्रतिदिन सिर से 100 बाल टूटना कोई चिंता की बात नहीं है। कई बार थॉयरॉयड, वंशानुगत भी बाल झड़ते हैं। तनाव दूर करें। प्रोटीनयुक्त भोजन, हरी साग-सब्जी खाएं। प्रचूर मात्रा में पानी पीएं। रूसी और खुजली से भी बाल झड़ते हैं।
सवाल: माथे के पीछे फोड़ा-फूंसी निकल जाता है। दवा से भी ठीक नहीं होता है। (संजय कुमार, मधुबनी)
सलाह: शुगर की जांच कराएं। उसके बाद चिकित्सक से सलाह लें।
सवाल: 80 वर्षीय दादी को बार-बार फोड़ा हो जा रहा है। बदबू भी आती है। (आशीष, सहरसा)
सलाह : उम्र के साथ त्वचा की नमी खत्म हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *