आदेश की पालना नहीं करने पर सीएमएचओ की गाड़ी कुर्क

श्रीगंगानगर, 19 फरवरी (का.सं.)। अदालत के आदेश की पालना न करने पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) की सरकारी गाड़ी को मंगलवार को अदालत के आदेश पर कुर्क कर लिया गया। इससे पूर्व अदालत ने इसी मामले में आदेश की पालना नहीं करने पर सीएमएचओ कार्यालय के सामान को भी कुर्क करने के आदेश दिये थे। श्रमिक को बकाया मजदूरी का भुगतान न किये जाने का यह मामला काफी वर्ष पुराना है। प्रकरण के तथ्यों के मुताबिक श्रीगंगानगर में पुरानी आबादी के वार्ड नं. 17 निवासी ओमप्रकाश पुत्र लेखराज नायक ने कोर्ट में परिवाद दायर किया था कि उसने 19 जून 1984 से 1 नवम्बर 1986 तक दैनिक वेतनभोगी श्रमिक के रूप में काम किया। इसके बाद सीएमएचओ कार्यालय ने बिना कोई कारण बताये उसकी सेवाएं समाप्त कर दी। इसके विरुद्ध ओमप्रकाश ने अदालत में परिवाद पेश किया। अदालत ने 21 जनवरी 2012 को उसे चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी मानते हुए 20 अक्टूबर 1986 से वर्तमान तक बकाया वेतन, अन्य परिलाभ व साढ़े 7 प्रतिशत ब्याज सहित भुगतान करने के आदेश दिये। यह कुल मिलाकर 23 लाख 27 हजार 639 रुपये की राशि बनती थी। प्रकरण के अनुसार सीएमएचओ कार्यालय ने यह राशि अदा करने की बजाय हाईकोर्ट में याचिका दायर कर दी। सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने याचिका को खारिज कर दिया। इस पर ओमप्रकाश ने कोर्ट में इजराय पेश की। लेबर कोर्ट ने 28 सितम्बर 2018 और 17 जनवरी को सीएमएचओ ऑफिस के सरकारी सामान को कुर्क करने के आदेश दिये। इस आदेश की पालना नहीं हुई तो सैशन कोर्ट ने सीएमएचओ की जीप, कुर्सी, टेबल, पंखे, सोफा सैट, अलमारी तथा एसी कुर्क करने के लिए कहा। जिला सैशन कोर्ट के नाजिर अनिल गोदारा ने इस आदेश की पालना में आज सीएमएचओ कार्यालय में जाकर उनकी सरकारी गाड़ी को कुर्क करने की कार्रवाई की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *