कंपनियों को इंडिया के भारत की समस्याओं को दूर करना होगा-संदीप नाइक

नई दिल्ली। इंडिया एंड एसिया-पेसिफिक एट जनरल अटलांटिक के मैनेजिंग डायरेक्टर और इंडिया हेड संदीप नाइक ने कहा है कि हमें भारत और इंडिया में फर्क समझना होगा। इंडिया से अलग अब भारत के उपभोक्ताओं के लिए सोचना होगा। मिंट इंडिया इन्वेस्टमेंट समिट 2020 को संबोधित करते हुए उन्होंने यह बात कही।उन्होंने कहा कि एक देश के तौर पर नवाचार को लेकर कुछ खास प्रगति नहीं हुई है। संदीप नाइक के साथ पैनल डिस्कशन में ्रढ्ढह्रहृ इंडिया इन्वेस्टमेंट एडवाइजर पार्थ गांधी, एडवेंट इंटरनेशनल की श्वेता जलान, ट्रिलीगल के निशांत पारिख और केपीएएमजी के नीतीश पोद्दार शामिल थे।संदीप नाइक ने कहा कि कंपनियों के लिए यह समय भारत की समस्या दूर करने का है, न कि इंडिया का। उन्होंने भारत और इंडिया का फर्क समझाया।जेनरल अटलांटिक के एमडी ने कहा कि उनकी कंपनी क्चङ्घछ्व’स् भारत में शिक्षा में लोकतांत्रिक व्यवस्था ला रही है। पेमेंट गेटवे का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि जब डिजिटल पेमेंट आया उस समय भारत का बाजार सबसे सस्ता था। वहीं, पार्थ गांधी ने कहा कि भारतीय बाजार काफी हद तक परिवार के स्वामित्व वाला है, यहां तक कि लिस्टेड कंपनियां भी। उन्होंने यह भी कहा कि उनका मानना है कि अगले दशक में निजी ऋण बड़े होंगे, क्योंकि लेनदारों के अधिकारों को अल्पसंख्यक शेयरधारकों के अधिकारों की तुलना में लागू करना आसान है। इसके अलावा, नेहा ग्रोवर ने कई विभिन्न क्षेत्र भारत की समग्र विकास को आगे ले जाएगी। उन्होंने कहा कि कुछ ही देशों में 3-4 प्रतिशत की दर से विकास हो रहा है। भारत इस समय 5 प्रतिशत की दर से आगे बढ़ रहा है। श्वेता जलान ने कहा कि वह कंपनी के रोजाना कामकाज में दखल नहीं देती हैं। आज भी वह मूल्यों को जोडऩे का प्रबंध करती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *