कंपनियों को अब कुल फंड का 25 फीसद कॉर्पोरेट बॉन्ड से जुटाना अनिवार्य

नई दिल्ली। अब प्राइवेट कंपनियों को अपनी जरूरत के कुल फंड का 25 फीसद कॉरपोरेट बांड बाजार से जुटाना अनिवार्य होगा। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बाजार नियामक सेबी से कहा है कि बांड बाजार को विकसित करने के लिए सभी जरूरी कदम किए उठाए जाने चाहिए। इसके लिए नियम इस साल सितंबर तक बन जाने की उम्मीद है।

कॉरपोरेट बांड बाजार को और व्यापक बनाने पर जोर- वित्त मंत्री ने बाजार नियामक सेबी के बोर्ड के साथ बैठक में कहा कि कॉरपोरेट बांड बाजार को और व्यापक बनाए जाने की जरूरत है। सेबी को इस दिशा में कदम उठाने चाहिए।बैठक के बाद सेबी प्रमुख अजय त्यागी ने कहा कि बाजार नियामक इस दिशा में काम कर रहा है और अगले छह महीने के भीतर इससे संबंधित नियमों को जारी कर दिया जाएगा। इसके बाद सभी लिस्टेड कंपनियों के लिए अपनी जरूरत के फंड का 25 फीसद कॉरपोरेट बांड बाजार से जुटाना अनिवार्य हो जाएगा।

सेबी प्रमुख ने निवेशकों को किया आश्वस्त- हाल में शेयर बाजार में आई गिरावट को लेकर सेबी प्रमुख ने छोटे और खुदरा निवेशकों को आश्वस्त करते हुए कहा कि इससे घबराने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि म्यूचुअल फंड के जरिये शेयर बाजार में पैसा लगाने का रास्ता उचित और सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि बाजार की उथल-पुथल कुछ दिन जारी रह सकती है। भारतीय बाजारों को लेकर निवेशकों के मन में कोई चिंता नहीं रहनी चाहिए। बजट में लांग टर्म कैपिटल गेन टैक्स की वापसी को लेकर उठ रही चिंताओं के संबंध में पूछे जाने पर त्यागी ने कहा कि निवेशकों की तरफ से सेबी को अभी तक इस संबंध में एक भी शिकायत अथवा ज्ञापन नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि भारतीय बाजार अच्छा कर रहा है और उसका सकारात्मक रुख आगे भी बना रहेगा। सेबी इसके विस्तृत नियम व दिशानिर्देश सितंबर तक जारी कर देगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *