पीएम मोदी का रिफाइनरी के शिलान्यास के लिए आना दुर्भाग्यपूर्ण – गहलोत

जयपुर, 6 जनवरी (एजेंसी)। प्रदेश में बाड़मेर रिफाइनरी के दोबारा शिलान्यास को लेकर सियासत गरमा गई है । पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने 16 जनवरी को दोबारा बाड़मेर रिफाइनरी के शिलान्यास को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। अपने सरकारी आवास पर पत्रकारों से बातचीत में गहलोत ने कहा कि भाजपा अगर खुद को धार्मिक ज्यादा मानती है, तो रिफाइनरी का दोबारा शिलान्यास नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि रिफाइनरी परियोजना का शिलान्यास 22 सितंबर 2013 को ही हो चुका था, लेकिन उसके बाद 4 साल बर्बाद करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शिलान्यास करवाना दुर्भाग्यपूर्ण है। गहलोत ने कहा कि उन्होंने बीते वर्ष 12 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा था, लेकिन जब प्रधानमंत्री का 16 जनवरी को बाड़मेर आने का कार्यक्रम तय हो गया, तब उन्होंने दोबारा 5 जनवरी को एक रिमांडर पत्र भेजा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की वसुंधरा सरकार प्रदेश की जनता को गुमराह कर रही है और प्रदेश की जनता भाजपा सरकार से पूछ रही है कि उसका क्या कसूर है। गहलोत ने आरोप लगाया कि वर्तमान सरकार ने पूर्ववर्ती सरकार के विकास कार्यों को अवरूद्ध करके बहुत बड़ा पाप किया है और प्रदेश की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को प्रदेश की जनता से माफी मांगनी चाहिये। उन्होंने कहा कि अगर प्रधानमंत्री को शिलान्यास करने का ज्यादा शौक है, तो अच्छा है कि इससे राजस्थान का कोई भला हो। एक सवाल के जवाब में गहलोत ने कहा कि निश्चित ही प्रधानमंत्री के दौरे को लेकर प्रदेश भाजपा जरूर उत्साहित है और अजमेर, अलवर और मांडलगढ़ उपचुनाव में फायदा उठाने की कोशिश करेगी। गहलोत ने आरोप लगाया कि चाहे चुनाव आयोग हो, या आयकर विभाग हो या सीबीआई, देश की जनता भयभीत है कि कब उनके घर छापे पड़ जाए। लेकिन देश की जनता भाजपा को जरूर सबक सिखायेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *