एग्रो फसल कवच और एग्रो चार्जर तकनीक से करेंगे फसलों को रोगमुक्त करने का प्रयास-सैनी

जयपुर, 25 जून (का.सं.)। कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने बताया कि नैनो टेक्नोलॉजी पर आधारित एग्रोक्लीन फसल कवच और एग्रो चार्जर जैसी तकनीक से फसलों को रोगमुक्त करने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस तकनीक का परीक्षण प्रदेश के कृषि विश्वविद्यालयों में करवाया जाएगा। सैनी सोमवार को पंत कृषि भवन में इस तकनीक के प्रस्तुतीकरण बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि इस तकनीक के उपयोग से कीटनाशकों और उवर्रकों पर पर होने वाले खर्चे में कमी आएगी, मृदा का स्वास्थ्य सही रहेगा और कृषि उत्पादों की गुणवत्ता सुधरेगी। इस अवसर पर कृषि मंत्री ने बताया कि कृषि विभाग द्वारा खरीफ सीजन में 159 लाख हेक्टेयर में बुवाई का लक्ष्य रखा गया है। विभाग द्वारा पर्याप्त मात्रा में खाद और बीज की व्यवस्था सुनिश्चित कर ली गई है और प्रदेश में कहीं भी आदान उपलब्धता की कमी नहीं रहेगी। उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा 8 लाख 58 हजार मैटिक टन उवर्रकों और 7 लाख 50 हजार क्विंटल बीज की व्यवस्था कर ली गई है। इस सीजन में बाजरा 40 लाख हेक्टेयर, मक्का, 10 लाख हेक्टेयर, ज्वार 5 लाख 50 हजार हेक्टेयर, सोयाबीन 10 लाख हेक्टेयर, तिल 4 लाख 50 हजार हेक्टेयर, मूंग 15 लाख हेक्टेयर, मोठ 12 लाख हेक्टेयर, उड़द 3 लाख 50 हजार हेक्टेयर और कपास का 4 लाख 50 हेक्टेयर में बुवाई का लक्ष्य रखा गया है।कृषि विभागीय समन्वय समिति की कार्यकारिणी को दिलाई शपथ कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी पंत कृषि भवन में आयोजित एक समारोह में कृषि विभागीय समन्वय समिति की कार्यकारिणी को शपथ भी दिलवाई। उन्होंने कहा कि कर्मचारी सरकार और जनता के बीच सेतु की तरह काम करें। पत्रावलियों की देरी पर चिंता व्यक्त करते हुए, उन्होंने इनके त्वरित निस्तारण की बात कही। उन्होंने सरकार के किसानों की आय दोगुनी करने के संकल्प को पूरा करने के लिए कर्मचारियों से पूर्ण से मनोयोग कार्य करने का आह्वान किया। इस अवसर कृषि विभाग के आयुक्त विकास सीतारामजी भाले, उद्यान विभाग के निदेशक वीपी सिंह सहित वरिष्ठ अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *