महापड़ाव पर जमे हैं धरतीपुत्र, वार्ता के लिए दल जयपुर पहुंचा

सीकर, 12 सितम्बर (एजेंसी)। स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने और कर्ज माफी की मांग जिले में 12 दिनों से धरतीपुत्रों का महापड़ाव जारी है। किसानों का ये आंदोलन अब तेज होने लगा है। वहीं, किसानों के महापड़ाव को देखते हुए प्रशासन ने कलेक्ट्रट के आसपास कफ्र्यू भी लगा दिया। किसानों ने मंगलवार को पूरे राजस्थान में चक्काजाम की घोषणा की। इस पर सरकार ने प्रतिनिधिमंडल को वार्ता के लिए मंगलवार को जयपुर बुलाया है। किसानों के दो दिन के चक्का जाम के बाद सरकार ने वार्ता के लिए प्रतिनिधिमंडल को बुलाया है। इसके लिए मंगलवार शाम को किसान जयपुर के लिए रवाना हो गए हैं। वार्ता करने वाले किसानों के प्रतिनिधिमंडल में 11 सदस्य शामिल हैं। किसानों के महापड़ाव व चक्काजाम से घबराई सरकार किसानों को लगातार वार्ता के प्रस्ताव भिजवा रही थी। रविवार को वार्ता का स्थान व समय नहीं बताने की नाराजगी को सोमवार सुबह जिला प्रशासन ने दूर कर दिया। जिला कलेक्टर नरेश कुमार ठकराल ने सोमवार सुबह दुबारा राज्य सरकार की ओर से वार्ता का न्यौता दिया। इसमें बताया कि सोमवार शाम पांच बजे कृषि भवन में वार्ता होगी। इस प्रस्ताव को किसान नेताओं ने स्वीकार करते हुए प्रतिनिधिमंडल के लिए 11 सदस्यों के नाम भी भिजवा दिए। लेकिन बाद में किसान नेताओं का तर्क था कि प्रतिनिधिमंडल के साथी दूसरे जिलों से भी आएंगे। सोमवार शाम पांच बजे तक वार्ता के लिए जयपुर पहुंचना संभव नहीं है। ऐसे में वार्ता के लिए मंगलवार शाम का वक्त तय हुआ। मंगलवार की शाम यहां से किसानों का प्रतिनिधिमंडल जयपुर रवाना हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *