किसानों को ओलावृष्टि से हुए नुकसान के प्रति मुख्यमंत्री संवेदनशील

33 प्रतिशत से अधिक के नुकसान पर किसानों को मिलेगा पूरा मुआवजा-मेघवाल

जयपुर, 6 मार्च (का.सं.)।आपदा प्रबंधन मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने विधान सभा में कहा कि प्रदेश में ओलावृष्टि होने से किसानों को हुए नुकसान के प्रति मुख्यमंत्री एवं हमारी सरकारी पूरी तरह गंभीर एवं संवेदनशील है। किसानों को ओलावृष्टि में हुए नुकसान का आकलन करने के लिए अगले 10 से 15 दिन में विशेष गिरदावरी करवाकर किसानों को हुए नुकसान का पूरा मुआवजा दिलवाया जाएगा। उन्होंने नागौर में आकाशीय बिजली गिरने से दो महिलाओं की मृत्यु होने पर उनके परिजनों को चार लाख रूपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार गिरदावरी के माध्यम से ओलावृष्टि से हुए नुकसान का संपूर्ण आकलन करवा कर सभी प्रभावित किसानों को तत्काल सहायता उपलब्ध कराने हेतु तत्पर है।आपदा प्रबंधन मंत्री ने शुक्रवार को विधान सभा में प्रदेश में हुई ओलावृष्टि पर अपना वक्तव्य देते हुए कहा कि प्रदेश में 04 वं 05 मार्च 2020 को हुई ओलावृष्टि से फसल खराबे की प्रारम्भिक सूचना जिलों से प्राप्त की गई है। जिला अलवर, बाड़मेर, भरतपुर, दौसा, गंगानगर, हनुमानगढ़, जयपुर, जोधपुर, करौली, सवाईमाधोपुर, बून्दी, बीकानेर, चूरू एवं झुंन्झुनूं से खराबे की सूचना प्राप्त हुई है। उन्होंने कहा कि जिला अलवर, बाड़मेर, भरतपुर, दौसा, गंगानगर, हनुमानगढ़, जयपुर, जोधपुर, करौली एवं सवाई माधोपुर में 33 प्रतिशत या इससे अधिक खराबे की सूचना प्राप्त हुई है। उन्होंने कहा कि जिला अलवर की 02 तहसीलों, तहसील रामगढ़ के 48 गावों में 63 से 74 प्रतिशत व तहसील अलवर के 04 गांवों में 35 से 80 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई। इसी प्रकार जिला बाड़मेर की 01 तहसील गुड़ामालानी के 09 गांवों में 40 से 50 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। आपदा प्रबंधन मंत्री ने कहा कि जिला भरतपुर की 02 तहसील नदबई के 02 गांवों में 10 से 80 प्रतिशत व कुम्हेर के 08 गांवों में 50 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला दौसा की 03 तहसीलों लवाण के 03 गांवों में 35 से 40 प्रतिशत, रामगढ़ पचवारा के 16 गांवों में 40 से 80 प्रतिशत व लालसोट के 07 गांवों में 40 से 80 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला गंगानगर की 01 तहसील अनूपगढ़ के 04 गांवों में 33 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला हनुमानगढ़ की 01 तहसील नोहर के 04 गांवों में 40 से 60, 11 गांवों में 25 से 50 व 05 गांवों में 20 से 35 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला जयपुर की 02 तहसीलों, तहसील जयपुर के 04 गांवों में 45 प्रतिशत एवं कोटखावदा के 23 गांवों में 50 से 90 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला जोधपुर की 01 तहसील लोहावट के 44 गांवों में 70 से 80 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला करौली की 01 तहसील टोडाभीम के 01 गांव में 40 से 50 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। इसी प्रकार जिला सवाईमाधोपुर की 01 तहसील खण्डार में 50 से 60 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। मास्टर मेघवाल ने कहा कि जिला बून्दी, बीकानेर, चूरू एवं झुंन्झुनूं में 33 प्रतिशत से कम खराबे की सूचना प्राप्त हुई है। उन्होंने बताया कि जिला बून्दी की 02 तहसील, बून्दी के 03 गांव में 10 से 15 प्रतिशत एवं हिण्डोली 11 गांवों में 15 से 20 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला बीकानेर की 01 तहसील खाजूवाला के 04 गांव में 05 से 15 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। इसी प्रकार जिला चूरू की 04 तहसील, राजगढ़ के 16 गांवों में 5 से 15 प्रतिशत, रतनगढ़ के 06 गांव में 05 से 25 प्रतिशत, सरदारशहर के 06 गांवों में 05 से 25 प्रतिशत एवं चूरू के 08 गांवों में 10 से 30 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। इसी प्रकार जिला झुंन्झुनूं की 03 तहसील, खेतड़ी के 33 गांव में 05 से 25 प्रतिशत, झुंन्झुनूं के 19 गांवों में 05 से 20 प्रतिशत एवं उदयपुरवाटी के 20 गांवों में 05 से 15 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ओलावृष्टि से हुये खराबे के प्रति संवेदनशील है तथा इस हेतु 5 मार्च 2020 को मुख्य सचिव द्वारा सभी जिला कलक्टर्स को निर्देशित किया गया है कि प्रारंभिक आकलन की सूचना भिजवा कर, गिरदावरी (7डी) रिपोर्ट शीघ्र तैयार कर भिजवाने की कार्यवाही करें, ताकि 33 प्रतिशत या इससे अधिक फसल खराबा प्राप्त होने पर एसडीआरएफ नोम्र्स के अनुसार कृषि आदान अनुदान दिया जा सके। आपदा प्रबंधन मंत्री ने बताया कि नागौर में लाडनूं तहसील के उदरासर ग्राम मे 5 मार्च 2020 को रात्रि 9.15 बजे श्रीमती गीता देवी पर आकाशीय बिजली गिरने से मृत्यु हुई उक्त मृतका श्रीमति गीतादेवी पत्नी सुरेश निवासी कंवरपुरा पालवास तहसील एवं जिला सीकर संबंधित होने के कारण जिला कलेक्टर सीकर को सूचित कर दिया गया। इसी प्रकार नागौर में ही देदिया का बास नांवा में 6 मार्च 2020 को दोपहर 2 बजे खेत में कार्य कर रहे भंवरी देवी पर आकाशीय बिजली गिरने से मृत्यु हो गई व साथ ही श्री रामूराम पुत्र हनुमान राम सामान्य घायल हो गये। मृतका के परिजनों को कलक्टर के माध्यम से चार-चार लाख रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *