प्रदेश के 202 उपखण्डों में सतर्कता समितियों का पुनर्गठन

 

जयपुर, 5 अप्रैल (का.सं.)। राज्य सरकार द्वारा एक आदेश जारी कर 24 जिलों के 202 उपखण्डों में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है। प्रत्येक समिति में राज्य सरकार द्वारा सात सदस्य मनोनीत किये गए हैं, जिसमें सामान्य श्रेणी से तीन, अनुसूचित जाति से एक, अनुसूचित जनजाति से एक तथा 2 नगरीय प्रतिनिधियों का मनोनयन किया गया है। आदेश के अनुसार बीकानेर जिले में 8 उपखण्डों, डूंगरगढ़, कोलायत, खाजूवाला, पूगल, छतरगढ़, बीकानेर, लूणकरणसर एवं नोखा में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है। इसी प्रकार सवाईमाधोपुर में भी 8 उपखण्डों, बौंली, बामनवास, सवाईमाधोपुर, मलारना डूंगर, गंगापुर सिटी, वजीरपुर, खण्डार एवं चौथ का बरवाड़ा में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है। गंगानगर जिले में 9 उपखण्डों, सूरतगढ़, विजय नगर, अनूपगढ़, घड़साना, सादुलशहर, गंगानगर, करणपुर, पदमपुर एवं रायसिंहनगर में तथा जोधपुर जिले में 10 उपखण्डों, बावड़ी, भोपालगढ़, लूणी, औसियां, फलौदी, बाप, पीपाड़, बिलाड़ा, शेरगढ़ एवं बालेसर में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है। टोंक जिले में 7 उपखण्डों, पीपलू, निवाई, टोंक, टोडारायसिंह, मालपुरा, देवली एवं उनियारा तथा दौसा जिले में भी 7 उपखण्डों, नांगल राजावतान, दौसा, लालसोट, महवा, बांदीकुई, सिकराय एवं पचवारा में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है। इसी तरह सिरोही जिले में 5 उपखण्ड स्तरीय सतर्कता समितियों में 7 सदस्यों का मनोनयन कर पुनर्गठन किया गया है। जिसमें आबू पर्वत, पिण्डवाड़ा, सिरोही, शिवगंज तथा रेवदर उपखण्ड शामिल हैं।करौली जिले में 6 उपखण्डों, हिण्डौन, करौली, टोडाभीम, मण्डरायल, सपोटरा तथा नादोती एवं बूंदी जिले में भी 6 उपखण्डों, केशोराय पाटन, लाखेरी, हिण्डोली, नैनवां, बूंदी एवं तालेड़ा जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है। इसी प्रकार धौलपुर जिले में 6 उपखण्डों, बाड़ी, सरमथुरा, बसेड़ी, सैपऊ, धौलपुर एवं राजाखेड़ा में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है।
भरतपुर जिले में 11 सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है जिसमें रूपवास, बयाना, भुसावर, वैर, नगर, नदबई, कुम्हेर, डीग, पहाड़ी, भरतपुर तथा कामां उपखण्ड शामिल हैं। इसी प्रकार कोटा जिले में 6 उपखण्डों, रामगंजमण्डी, कनवास, दिगोद, सांगोद, लाडपुरा एवं इटावा तथा झालावाड़ जिले में 8 उपखण्डों, पिड़ावा, झालावाड़, मनोहरथाना, अकलेरा, खानपुर, असनावर, गंगधार एवं भवानीमण्डी में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है। बारां जिले में 8 उपखण्डों, किशनगंज, बारां, शाहबाद, छीपाबड़ोद, छबड़ा, अटरू, मांगरोल एवं अंता तथा जयपुर जिले में 12 उपखण्डों, विराटनगर, शाहपुरा, कोटपूतली, जमवारामगढ़, सांगानेर, सांभर, चौमू, दूदू, फागी, आमेर, चाकसू एवं बस्सी में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है। इसी तरह डूंगरपुर जिले में 8 उपखण्डों, सागवाड़ा, सांवला, बिछीवाड़ा, डूंगरपुर, सीमलवाड़ा, चिकली, गलियाकोट एवं आसपुर में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है। जालौर जिले में 9 उपखण्डों में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है, जिनमें सायला, जालौर, बागोड़ा, भीनमाल, सांचौर, चितलवाना, जसवन्तपुरा, रानीवाड़ा एवं आहोर शामिल हैं। इसी प्रकार अलवर जिले में 14 उपखण्डों, राजगढ़, अलवर, बानसूर, बहरोड़, कोटकासिम, कियानगढ़बास, नीमराल, मुण्डावर, रेणी, तिजारा, थानागाजी, लक्ष्मणगढ़, रामगढ़ एवं कठूमर तथा बाड़मेर जिले में 11 उपखण्डों, बायतु, चोहटन, सेड़वा, रामसर, धोरीमना, गुढ़ामलानी, बाड़मेर, सिवाना, शिव, सिणधरी एवं बालोतरा में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है।
जैसलमेर जिले में 4 उपखण्डों, पोकरण, फतहगढ़, जैसलमेर एवं भणियाणा तथा सीकर जिले में 8 उपखण्डों, दांतारामगढ़, धोद, खण्डेला, नीमकाथाना, सीकर, लक्ष्मणगढ़, फतेहपुर एवं रामगढ़ में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है। इसी प्रकार बांसवाड़ा जिले में 8 उपखण्डों, घाटोल, सज्जनगढ़, कुशलगढ़, गढ़ी, बांसवाड़ा, छोटी सरवन, बागीदोरा एवं आनन्दपुरी तथा हनुमानगढ़ जिले में 7 उपखण्डों नोहर, रावतसर, संगरिया, टिब्बी, भादरा, हनुमानगढ़ एवं पीलीबंगा में जिला सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है। भीलवाड़ा जिले में 16 उपखण्ड स्तरीय सतर्कता समितियों का पुनर्गठन किया गया है, जिसमें आसीन्द, भीलवाड़ा, करेड़ा, कोटडी, जहाजपुर, फुलियाकलां, बनेड़ा, बिजोलिया, माण्डल, माण्डलगढ़, रायपुर, शाहपुरा, हमीरगढ़, गुलाबपुरा, बदनौर तथा गंगापुर शामिल हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *