वजन घटाने के लिए खूब खाइए गोलगप्पे

 

गोलगप्पे का नाम सुनते ही मुंह में पानी आ गया होगा। मगर अक्सर इसे खाने वालों को सेहत के प्रति लापरवाह या चटोरा कहा जाता है। अब अगर कोई आपको यह सब सुनाए तो उसे गोलगप्पे की खासियतें बता सकते हैं। आज हम आपको पानीपुरी खाने के फायदे बताने जा रहे हैं। सबसे बड़ी बात तो यह है कि आपकी पसंदीदा पानीपुरी कभी आपका हाजमा नहीं बिगाड़ती है। इसका स्वाद बढ़ाने वाले मसाले दरअसल आपका हाजमा दुरुस्त करते हैं। हमारी बात पर शायद खुद आपको भी यकीन नहीं हो रहा होगा, मगर यह सच है। गोलगप्पे बहुत सारी स्थिति में आपकी तबीयत ठीक करते हैं। पानीपुरी का चटापटा पानी बहुत सारे मसालों से मिलकर बनता है जो एसिटिडी और पेट दर्द जैसी समस्?याओं का खात्मा करता है।
अलग-अलग नाम हैं इसके
गोलगप्पे या पानीपुरी को देश के अलग-अलग हिस्सों में विभिन्न नामों से जाना जाता है। इसे महाराष्ट्र में पानीपुरी बोलते हैं, हरियाणा में पताशे, यूपी में बताशे या गोलगप्पा, बिहार में फुल्की, पश्चिम बंगाल में पुचका, ओडीशा में गुपचुप और गुजरात में पकोड़ी कहते हैं।
गोलगप्पा खाने के फायदे
वजन करता है कम
हरदिल अजीज गोलगप्पा, बताशा या पानीपुरी के पानी को थोड़ी सावधानी के साथ बनाया जाए तो यह बढ़ते वजन की आपकी बहुत बड़ी समस्या में राहत दिला सकता है। सबसे पहली बात तो यह कि इसमें मीठा बिलकुल न हो और पुदीना, हींग, नींबू व कच्चा आम मिला दिया जाए। पानी में टमाटर का भी उपयोग न किया गया हो तो बेहतर है। साथ ही गोलगप्पे को रवे की बजाए आटे से बनाना व कम तलना फायदेमंद रहेगा।
मुंह के छाले करे ठीक
पुचके के पानी में का तीखा और खट्टा स्वाद मुंह के छालों में राहत दिलाने का काम करता है। इसमें जलजीरा, पुदीना व इमली होती है। इनका तीखापन व खट्टापन पेट साफ करने के साथ छालों का पानी निकालकर उन्?हें सूखा देता है।
एसिडिटी में लाभ
सफर के दौरान कुछ लोगों को बंद माहौल में घुटन महसूस होती है। कभी-कभी मितली भी महसूस होने लगती है। ऐसे में आटे से बने 3-4 गोलगप्पे खा लेने से तुरंत आराम मिलता है।
बिगड़ा मूड बनाए
गर्मी के दिनों में बाहर घूमने से प्यास ज्यादा लगती है और थकावट महसूस होती है। ऐसी स्थिति में केवल पानी पीने के बजाए पहले कुछ गोलगप्पे खा लें। यदि आप गोलगप्पे खाने के बाद पानी पीते हैं तो आपको एकदम फ्रेश-फ्रेश फील होता है।
दोपहर में खाना फायदेमंद
गोलगप्पे खाने के लिए दोपहर का समय सबसे सही होता है। शाम के समय पानी पताशे खाने से वजन बढऩे की आशंका रहती है। साथ ही कसरत करने से पहले या बाद में गोलगप्पे खाना भी नुकसान करता है।
आटे से बने गोलगप्पे खाएं
गोलगप्पेवाला अक्सर पूछता है, रवे के या आटे के? तो अगली बार जब वह आपसे यह सवाल पूछे तो उसे आटे के गोलगप्पे खिलाने के लिए कहें। यह आपके वजन कम करने के टार्गेट को पूरा करने में मदद करेगा। साथ ही भरावन में छोले या मटर के बजाए मूंग या चने की दाल का प्रयोग ज्यादा फायदा पहुंचाएगा।
गोलगप्पे बनाने की विधि
गोलगप्पे सूजी-मैदा या फिर केवल सूजी या फिर आटे से भी बनाए जा सकते हैं। आटा गूथते वक्?त हमेशा गुनगने पानी का प्रयोग करें। इसे पूड़ी के आटे से थोड़ा नरम ही रखें।
सामग्री-
1 कप मैदा
1 कप रवा/सूजी
नमक- स्?वादअनुसार
1 चम्?मच तेल
चुटकीभर सोडा
1 कप पानी
विधि – एक कटोरे में सूजी, मैदा, नमक, सोडा और तेल मिक्?स करें। फिर इसमें धीरे धीरे गुनगुना पानी डाल कर गूंथ लें। गूंथे हुए आटे को 25-35 मिनट तक के लिये ढक कर रख दें। उसके बाद आटे को हाथों से एक बार मसल कर मिुलायम कर लें और फिर इसको तीन भागों में बांट लें। आटा ना ज्यादा सख्त हो ना ज्यादा मुलायम। फिर आटे के एक हिस्से को पूरी तरह से बेल लेंगे। उसके बाद किसी बॉटल का ढक्कन लेकर बेले हुए आटे से छोटी-छोटी पूरियां काटकर अलग कर लें। इन तैयार गोलगप्पों को किसी कपड़े से ढक दें। जब पूडिय़ां तैयार हो जाएं तब आंच पर कढ़ाई चढ़ा कर तेल गरम करें और उसमें पूडिय़ां डाल कर तल लीजिए। आंच हमेशा धीमी रखें नहीं तो गोलगप्पे करारे नहीं बनेंगे। जब गोलगप्पे तैयार हो जाएं, तब इन्हें 3 घंटे के लिए खुले बर्तन में ही रखें, जिससे वे सख्त हो जाएं। अगर कुछ गोल गप्पे नहीं फूले हैं तो आप उन्हें पापरी की तरह इस्तेमाल कर सकती हैं। जब पूडियां तैयार हो जाएं तब इनमें मीठा और नमकीन पानी डाल कर सर्व कीजिए।

गोलगप्पे के पानी को यूं बनाएं मजेदार

सामग्री
हरी पुदीना पत्ती
धनिया पत्ती
2 हरी मिर्च
1 चम्मच जीरा पाउडर
1 चुटकी हींग
काला नमक
सफेद नमक
सोंठ पाउडर
नींबू, आमचूर पाउडर, इमली या कच्चे आम का गूदा
विधि
सबसे पहले पुदीना और हरि धनिया को साफ धो कर मिक्सर में हरी मिर्च, जीरा पाउडर, काला नमक, सफ़ेद नमक, सोठ पाउडर, और थोड़ा सा पानी डालकर ग्राइंड कर लें। अब इसे मिक्सी में से निकालकर एक गहरे बर्तन में डाल दें। अब इसमें 1 गिलास पानी डाल दें और अच्छे से मिक्स कर दें। अब इसमें एक नींबू, अमचूर पाउडर या कच्चे आम या इमली का गूदा मिला दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *