दिल दुरुस्त रखने को दलिए से करें दिन की शुरुआत, मोटापा, कैंसर से बचाने और कोलेस्ट्रॉल का स्तर घटाने में कारगर

 

दिन की शुरुआत एक कटोरी दलिया से करना दिल दुरुस्त रखने का सबसे कारगर जरिया है। ब्रिटेन स्थित न्यू कैसल यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता मानव सेहत पर दलिया के नियमित सेवन के सकारात्मक प्रभाव आंकने के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं। उनके मुताबिक दलिया ‘बीटा ग्लूकन सहित अन्य घुलनशील फाइबर का बेहतरीन स्रोत है। ये फाइबर आंत में पहुंचकर गाढ़े जेल का रूप अख्तियार कर लेते हैं, जिससे पेट लंबे समय तक भरा-भरा महसूस होता है और मोटापे की शिकायत नहीं सताती। इतना ही नहीं, ‘बीटा ग्लूकन पाचन क्रिया को सुचारु बनाने वाले एनजाइम के उत्पादन को भी बढ़ावा देता है। यह आंत को खाने में मौजूद कोलेस्ट्रॉल सोखने से रोकता है। पूर्व में हुए कुछ अध्ययनों में भी देखा गया है कि ‘बीटा ग्लूकन की 3 ग्राम नियिमित खुराक लेने पर दिल की सेहत के लिए घातक लो-डेंसिटी कोलेस्ट्रॉल का स्तर 7 फीसदी तक घट जाता है। रोज सुबह 70 ग्राम दलिया खाकर शरीर में 3 ग्राम ‘बीटा ग्लूकन की आपूर्ति सुनिश्चित की जा सकती है।मुख्य शोधकर्ता जॉर्ज ग्रिमबल की मानें तो ‘बीटा ग्लूकन ब्यूट्रिक एसिड सहित अन्य अम्ल के निर्माण में भी सहायक है। ये अम्ल आंत में मौजूद कोशिकाओं के डीएनए की मरम्मत कर कैंसर का खतरा घटाते हैं। रोग-प्रतिरोधक तंत्र को मजबूत बनाने के अलावा आंत में ‘गुड बैक्टीरिया का स्तर बढ़ाने में भी ‘बीटा ग्लूकन को खासा असरदार पाया गया है। ग्रिमबल ने बताया कि दलिया में मैनगनीज, कॉपर, आयरन और विटामिन-बी जैसे पोषक तत्व भी मौजूद होते हैं। इससे यह अनीमिया से बचाव में तो मददगार साबित होता ही है, साथ ही आंखों की रोशनी भी दुरुस्त रखता है। उन्होंने दलिया को कम फैट वाले दूध में पकाने और शक्कर की मात्रा बेहद कम रखने की सलाह दी है। मीठे के लिए शहद का इस्तेमाल करना ज्यादा बेहतर रहेगा।
नसीहत
-भूख काबू में रखकर मोटापे की शिकायत भी दूर करती है
-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और कैंसर से बचाने में भी मददगार
डायबिटीज का खतरा भी घटेगा
-मेडिकल जर्नल ‘जामाÓ में 2015 में छपे एक अध्ययन में दलिया का ग्लाइकैमिक इंडेक्स (जीआई) कम बताया गया था। इसका अर्थ है कि दलिया खून में कैलोरी का प्रवाह धीमा करती है। इससे अग्नाशय से इंसुलिन का नियंत्रित स्त्राव होता है, जो शरीर को इंसुलिन के प्रति संवेदनशील बनाए रखने और टाइप-2 डायबिटीज का खतरा घटाने में अहम भूमिका निभाता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *