वन्यजीव संरक्षण के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्यो को मिला सम्मान

जयपुर, 7 अक्टूबर (एजेन्सी)। वन विभाग, राजस्थान सरकार द्वारा 64वें वन्यजीव संरक्षण सप्ताह के राज्यस्तरीय समापन समारोह के अन्तर्गत नाहरगढ जैविक उद्यान में प्रधान मुख्य वन संरक्षक सी.एस. रत्नास्वामी, मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक जी.वी. रेड्डी, अति.प्रधान मुख्य वन संरक्षक दीपक भटनागर, मुख्य वन संरक्षक अजय गुप्ता तथा उपवन संरक्षक (वन्यजीव) सुदर्शन शर्मा ने वन्यजीव संरक्षण के क्षेत्र में उत्कृष्ट एवं सराहनीय सेवाओं एवं जन चेतना के लिए प्रदेश में पर्यावरण एवं वन्यजीव संरक्षण के क्षेत्र में कार्यरत भारत सरकार के वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के अन्र्तगत गठित एनिमल वैल्फेयर बोर्ड ऑफ इंडिया के स्टेट एनिमल वेल्फेयर ऑफिसर एवं ‘वल्र्ड के निदेशक मनीष सक्सेना को प्रशस्ति पत्र एंव स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। उल्लेखनीय है कि ‘वल्र्ड संगठन के निदेशक मनीष सक्सेना पिछले दो दशको से भी अधिक समय से राजस्थान में पर्यावरण, वन्यजीव संरक्षण तथा पशु कल्याण एवं उनके अधिकारो के लिए कार्यरत है। हाल ही मे मनीष सक्सेना को भारत सरकार ने एनिमल वैल्फेयर बोर्ड ऑफ इंडिया का स्टेट एनिमल वेल्फेयर ऑफिसर-राजस्थान नियुक्त किया है। राजस्थान सरकार ने भी मनीष सक्सेना के उल्लेखनीय कार्यों को देखते हुए मानद् वन्यजीव प्रतिपालक नियुक्त किया। सक्सेना जिला कलेक्ट्रर की अध्यक्षता मऌ गठित पशु क्रूरता निवारण समिति के साथ भी विगत कई वर्षो से कार्यरत ह0। इसके साथ ही मनीष सक्सेना भारत सरकार के ‘वाइल्ड लाइफ क्राइम कन्ट्रोल ब्यूरो तथा ‘पशुओ पर परिक्षण के नियंत्रण एवं पर्यवेक्षण के प्रयोजनार्थ समिति को भी अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे है। मनीष सक्सेना द्वारा प्रदेश में सर्वप्रथम पेन्थर संरक्षण परियोजना, राष्ट्रीय पक्षी संरक्षण परियोजना, ‘इको आर्मी तथा ‘वल्र्ड जू पट्रोल के माध्यम से वन्यजीव संरक्षण अभियान चलाये जा रहे है जिसमे राज्य के पाँच हजार से अधिक विद्यालय ‘वल्र्ड संगठन के साथ पर्यावरण एवं वन्यजीव संरक्षण के लिए कार्यरत है। संगठन के संरक्षक न्यायमूर्ति अंशुमान सिंह ने इस उपलब्धि के लिए संगठन के सभी अधिकारियों, कार्यकर्ताओं तथा वल्र्ड जू पट्रोल को बधाई दी साथ ही संगठन से जुड़े हजारों विद्यार्थियों को इसी प्रकार आगे भी पर्यावरण एवं वन्यजीव संरक्षण के लिये कार्य करने को प्रेरित किया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *