ट्रांसफार्मर में धमाका, पावर हाऊस में आग लगी

हनुमानगढ़ जंक्शन के भगतसिंह चौक में मची अफरा-तफरी
श्रीगंगानगर, 22 नवम्बर (नि.स.)। हनुमानगढ़ जंक्शन में दिन-रात अतिव्यस्त और गहमागहमी वाले भगतसिंह चौक के नजदीक सब्जी मण्डी में सरकारी स्कूल के गेट के पास स्थित पावर हाऊस में बुधवार दोपहर को एक जबरदस्त विस्फोट के साथ ट्रांसफार्मर फट गया। उसमें भीषण आग लग गई। पास में दूसरा ट्रांसफार्मर भी लगा हुआ है, जिसमें आग नहीं लगी। लेकिन पावर हाऊस का कार्यालय आग की लपटों में घिर गया। अपराह्न लगभग 3 बजे लोगों ने जबरदस्त धमाके की आवाज सुनी और फिर उन्हें पावर हाऊस में लगे ज्यादा क्षमता वाले एक ट्रांसफार्मर से धुएं व आग की लपटें उठते हुए देखीं। गनीमत रही कि इस हादसे के समय पावर हाऊस में कोई भी कर्मचारी नहीं था। लिहाजा जानी नुकसान होने से बच गया, परंतु विद्युत निगम को लाखों रुपये का नुकसान हो गया। आसपास के एक बड़े इलाके में बिजली गुल हो गई। इस भयानक हादसे की जानकारी मिलते ही हनुमानगढ़ जंक्शन थाना पुलिस सबसे पहले मौके पर पहुंची, जिसने भगतसिंह चौक से इस पावर हाऊस के आगे से संगरिया को जाने वाले मार्ग पर ऐहतियातन ट्रेफिक को रोक दिया। दूसरी ओर वहां फायर टेंडर लेकर पहुंचे दमकलकर्मियों ने आग पर काबू पाने के प्रयास शुरू कर दिये। चूंकि आग ट्रांसफार्मर में लगी थी, इसलिए मौके पर कैमिकल फोम वाले फायर टेंडर को भी लाया गया, जिसकी मदद से लगभग एक घंटे में आग पर काबू पा लिया गया। घटनास्थल पर पहुंचे विद्युत निगम के अधीक्षण अभियंता आरसी वर्मा ने मीडिया से बातचीत में कहा कि अभी कुछ नहीं कहा जा सकता कि ट्रांसफार्मर में विस्फोट किस वजह से हुआ और इस हादसे से कितना नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि हादसे के कारणों की विस्तृत जांच करवाई जाकर इसके लिए दोषी कर्मचारियों-अधिकारियों पर कार्रवाई की जायेगी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि करीब पौने 3 बजे इस पावर हाऊस में लगे दो ट्रांसफार्मरों में से एक में चिंगारियां फूटने लगी थीं। उससे धुआं भी निकलने लगा था। उस समय पावर हाऊस में न तो कोई जेईएन था और न ही कोई दूसरा तकनीकी कर्मी। लिहाजा इस हादसे को रोकने वाला वहां कोई न होने के कारण कुछ क्षण तक चिंगारियां निकलने के बाद एकाएक जबरदस्त विस्फोट हुआ और फिर पूरे ट्रांसफार्मर में आग लग गई। नजदीक ही पाउर हाऊस का कार्यालय आग की लपटों में आ गया। कार्यालय के बाहर पड़ा सामान आग की भेंट चढ़ गया। अंदर रखे हुए सामान को भी क्षति पहुंची है। विद्युत निगम का अमला इलाके में विद्युत आपूर्ति को बहाल करने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था करने मेें लगा है। इस पावर हाऊस की मरम्मत करने मेें काफी वक्त लगेगा। मोटे तौर पर इस अग्निकांड से विद्युत निगम को करीब 25 लाख का नुकसान हो गया।
नहीं सचेत होते नागरिक इस पावर हाऊस में ट्रांसफार्मर फट जाने और भीषण आग लग जाने की घटना से एक बार फिर जाहिर हो गया है कि लोग सावधानी नहीं बरतते। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि जब विस्फोट होने के बाद ट्रांसफार्मर में आग लगी, तब एक बार तो लोगों में अफरा-तफरी मच गई। जब तक आग बुझाने के लिए दमकलकर्मियों का अमला और पुलिसकर्मी नहीं पहुंचे थे, तब तक सामने की संगरिया रोड पर ट्रेफिक यथावत चलता रहा। यही नहीं, कुछ लोग तो पावर हाऊस के गेट पर आकर अंदर धूं-धूं जल रहे ट्रांसफार्मर के निकट पहुंच गये। बता दें कि अभी 20 दिन पहले ही जयपुर के निकट शाहपुरा में ट्रांसफार्मर फट जाने से करीब 20 व्यक्तियों की मौत हो गई तथा अनेक जने बुरी तरह से झुलस गये थे। इस घटना को देखते हुए हनुमानगढ़ में आज हुए हादसे में देखने को मिला कि लोग वहां से हटने की बजाय उसे करीब आकर देखने में लगे रहे। ऐसे में यहां भी अगर ट्रांसफार्मर से निकल रही आग और उसमें से निकले गर्म तेल की चपेट में कोई आ जाता, तो इसके लिए फिर विद्युत निगम और प्रशासन को ही दोषी ठहराया जाता। गायब होने से बची जान अमूमन लोगों को शिकायत रहती है कि विद्युत निगम के कार्यालय और पावर हाऊस से अधिकारी-कर्मचारी गायब रहते हैं। विशेषकर पावर हाऊस में तो कोई मिलता ही नहीं है। जब वे कोई शिकायत लेकर जाते हैं। मगर कर्मचारियों का गायब रहना ही आज उनके लिए बेहद सौभाग्यशाली हो गया। अगर इस पावर हाऊस में कोई कर्मचारी ड्यूटी पर होता, नि:सन्देह वह शायद ही इस ट्रांसफार्मर हादसे की जद्द में आने से बच पाता। लोगों मेें यही चर्चा रही कि इस पावर हाऊस में तैनात कर्मचारी ड्यूटी पर नहीं थे, नहीं तो जानी नुकसान हो जाता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *