डिकॉय ऑपरेशन में गिरफ्त आरोपी सलाखों के पीछे

सांगरिया, 12 मई (एजेन्सी)। पीसीपी एन डीटी टीम की ओर से डिकॉय ऑपरेशन कर संगरिया में पकड़े दोनों आरोपियों को रविवार शाम जेल में भेज दिया गया। दोनों को टीम ने रविवार को न्यायालय में पेश किया, जहां मामले की गंभीरता को देखते हुए आरोपियों को न्यायिक अभिरक्षा में भेजने के आदेश दिए गए। उल्लेखनीय है कि संगरिया के प्रखर डायगनोस्टिक सेंटर के संचालक व उसके पार्टनर को पीसीपीएनडीटी टीम ने शनिवार को गिरफ्तार किया था। दोनों पर आरोप हैं कि ये भ्रूण लिंग जांच करवाने के धंधे के साथ ही लोगों से धोखाधड़ी कर रुपए एंठते थे। इनकी शिकायत स्वास्थ्य विभाग को मिलने पर डिकॉय ऑपरेशन के जरिए कार्रवाई की गई। सीपीएनडीटी प्रभारी डॉ. निहाल बिश्रोई ने बताया कि संगरिया के भगत सिंह चौक पर स्थित प्रखर डायगनोस्टिक सेंटर के संचालक राकेश चौधरी व उसके पार्टनर मुकेश स्वामी को रविवार दोपहर बाद न्यायालय में पेश किया गया। जहां न्यायालय ने सुनवाई कर दोनों आरोपियों को न्यायिक अभिरक्षा में भेजने के आदेश दिए। दोनों आरोपियों से पूछताछ में सामने आया कि वे लंबे अर्से से इस धंधे में जुड़े हुए थे और अनेक लोगें को ऐसे ही ठग चुके हैं। यही नहीं शिकायत मिली है कि दोनों आरोपी कन्या भ्रूण हत्या जैसे जघन्य अपराध से भी जुड़े हैं। शनिवार को कार्रवाई के दौरान राकेश ने गर्भवती महिला का भ्रूण लिंग जांच की एवज में 54 हजार रुपए लिए थे और मनगढंत तरीके से भू्रण लिंग बताया था। इस धंधे में इसका पार्टनर मुकेश स्वामी मुख्य सहयोगी था। ये दोनों रुपए आपस में बांट कर धंधा चला रहे थे। बहरहाल, टीम ने शनिवार को ही सोनोग्राफी मशीन व एक्टिव ट्रेकर को सील कर दिया है और दस्तावेजों की जांच की जा रही है। काबिलेगौर है कि आरोपियों ने अब तक करीब 200-250 से अधिक भ्रूण लिंग जांच के मामलों में लोगों को ठग चुके हैं। और बेझिझक धंधा कर रहे थे। इस बीच विभाग को लगातार शिकायतें मिली और पीसीपीएनडीटी टीम ने कार्रवाई करते हुए दोनों आरोपियों को सलाखों के पीछे भिजवा दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *