किसानों को 31 मार्च तक 4 में से 2 समूह का पानी दिया जाए : बावरी

अनूपगढ़, 19 दिसम्बर (एजेन्सी)। सिचाई विभाग द्वारा 26 दिसम्बर से इंदिरा गांधी नहर परियोजना में वर्तमान वरीयताक्रम में बदलाव करने की योजना के चलते विरोध स्वरूप अनूपगढ़ की भाजपा विधायक संतोष बावरी तथा भाजपा नेता प्रभुदयाल बावरी ने सिचाई विभाग के निर्णय को किसान विरोधी करार दिया है।इस मामले में भाजपा की नव-निर्वाचित विधायक बावरी ने सिचाई विभाग के अधिकारियों को चेताया है कि कृषि प्रधान इस इलाके का किसान बिना सिचाई पानी के बर्बाद हो जाएगा, ऐसे में 26 दिसम्बर के बाद भी 31 मार्च तक वर्तमान वरीयताक्रम के हिसाब से 4 में से 2 समूह में पानी दिया जाए, ताकि किसानों की जरूरत पूरी हो सके। भाजपा नेता प्रभुदयाल बावरी ने कहा कि वर्तमान में इस क्षेत्र के किसानों की जीवनदायनी अनूपगढ़ शाखा क्षेत्र सहित प्रथम चरण में किसानों की गेंहू, सरसों तथा चना की फसल का बिजान 100 प्रतिशत हुआ है तथा पीछे डैम में पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्ध है, ऐसे में किसानों को फसलों के पकाव तक पानी देना चाहिए।विधायक बावरी ने कहा कि अगर कांग्रेस सरकार का सिचाई महकमा वर्तमान वरीयताक्रम में 26 दिसम्बर से बदलाव करता है तो किसानों की फसलें बर्बाद हो जाएंगी, जिसे सहन नहीं किया जाएगा। इस मामले में प्रेस के साथ बातचीत में विधायक संतोष बावरी ने बताया कि उन्होंने इस मामले में सिचाई विभाग के अलावा जिला कलैक्टर को भी अवगत करवाया दिया है। उन्होंने कहा कि अगर राज्य सरकार किसानों की भावनाओं एवं मांग के विपरित कोई निर्णय लेकर पानी के वरीयताक्रम में बदलाव करती है तो भाजपा कार्यकर्ता अपाने विधायकों के साथ मिलकर कांग्रेस सरकार के फैसले का विरोध करते हुए किसान हित में आवाज उठाएंगे। दूसरी ओर यरिया खाद को लेकर किसानों को पिछले कई दिनों से झेलनी पड़ रही मुश्किलों पर विधायक बावरी ने बताया कि इस मामले में उन्होंने कृषि विभाग के उच्चधिकारियों सहित जिला कलैक्टर से भी बात की है तथा उम्मीद है कि शीघ्र ही किसानों को खाद उपलब्ध होगी। वहीं सिचाई पानी के वीरयताक्रम के मुद्दे पर किसान नेता महेन्द्र तरड़ ने भी सिचाई विभाग की कार्यप्रणाली का विरोध जताते हुए आन्दोलन की सम्भावना व्यक्त की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *