एफसीएम ट्रैवेल सॉल्यूशंस और केपीएमजी ने ‘रिडिफाइनिंग कॉर्पोरेट ट्रैवेल मैनेजमेन्ट पर अपना शोध जारी किया

 

मुंबई, 16 फरवरी (एजेंसी)। फ्लाइट सेंटर ट्रैवेल ग्रुप (एफसीटीजी), ऑस्ट्रेलिया की भारतीय अनुषंगी एफसीएम ट्रैवेल सॉल्यूशंस और केपीएमजी ने आज ‘रिडिफाइनिंग कॉर्पोरेट ट्रैवेल मैनेजमेन्ट नामक एक विश्लेषण श्वेतपत्र जारी किया है। यह व्यवसायों को व्यवसाय यात्रा पर सर्वांगीण अभिगम देता है और अपने चुने हुए यात्रा भागीदार के प्रदर्शन के मूल्यांकन पर मापदंड निर्धारित करने में मदद करता है। वर्ल्ड ट्रैवेल एंड टूरिज्म काउंसिल (डब्ल्यूटीटीसी) के अनुसार वर्ष 2017 में वैश्विक यात्रा बाजार में व्यवसाय यात्रा खर्च का योगदान काफी बड़ा (77.5 प्रतिशत) था। विश्वभर में व्यवसाय यात्रा का खर्च अब मंदी से पहले के दौर वाला हो चुका है और हालिया वर्षों में इसमें अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। पिछले वर्ष भारत के लिये व्यवसाय यात्रा खर्च की वार्षिक वृद्धि में बढ़त विश्व के शीर्ष 15 व्यवसाय यात्रा बाजारों में शीर्ष पर रही। ग्लोबल बिजनेस ट्रैवेल एसोसिएशन (जीबीटीए) के अनुसार वर्ष 2017 में भारत में व्यवसाय यात्रा खर्च 37 बिलियन अमेरिकी डॉलर रहा और वर्ष 2019 तक के लिये आकलित 11.5 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि दर के साथ यह 46 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो जाएगा- इस प्रकार भारत विश्व के सबसे तेजी से बढ़ते व्यवसाय यात्रा बाजारों में से एक बन जाएगा। भारत विश्व का सातवां सबसे बड़ा व्यवसाय यात्रा बाजार है और वर्ष 2022 तक इसके शीर्ष 5 में आने की संभावना है। यही नहीं, इंडिया-चाइना-इंडोनेशिया (आईसीआई) यात्रा खर्च वर्ष 2022 तक 565 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो जाएगा और वर्ष 2035 तक विश्व में सबसे अधिक होगा। व्यवसाय यात्रा के लाभों को जानने के लिये कॉर्पोरेट्स को अपना यात्रा प्रबंधन कार्यक्रम सर्वांगीण तरीके से देखना चाहिये। श्वेतपत्र उन महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर केन्द्रित है, जो यात्रा प्रबंधन कार्यक्रम को सफल बनाते हैं; इनमें कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करना, कार्यक्रम की लागत प्रभावी होना, व्यवसाय के लिये यात्रा करने वाले कर्मचारियों की उत्पादनशीलता बढ़ाना और कार्यक्रम में अधिक पारदर्शिता शामिल हैं। इस प्रकार, एक व्यापक यात्रा कार्यक्रम अपनाने में कंपनियों की मदद करने का लक्ष्यप है, ताकि सभी हितधारकों की आवश्यकताएं पूर्ण हो सकें।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *