जीडीपी आंकड़ों में गिरावट कुछ वक्त के लिए नहीं, नोटंबदी से उपभोक्ताओं पर असर

नई दिल्ली। एक रपट के अनुसार देश की जीडीपी वृद्धि में मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में गिरावट अपेक्षित थी लेकिन आंकड़ों में आई ‘निर्बाध गिरावटÓ दिखाती है कि यह समस्या ‘सामयिक नहीं बल्कि संरचनात्मकÓ है. एसबीआई की अनुसंधान रपट इकोरेप में यह निष्कर्ष निकाला गया है. भारत की आर्थिक वृद्धि दर अप्रैल-जून की तिमाही में तीन साल के निचले स्तर 5.7 प्रतिशत पर आ गई. यह विनिर्माण गतिविधियों में नरमी के बीच जीएसटी के कार्यान्वयन को लेकर अनिश्चितता से हुई दिक्कतों को रेखांकित करती हैरपट में विशेष रूप से वृद्धि पर माल व सेवा कर जीएसटी के नकारात्मक असर को रेखांकित किया गया है. रपट में कहा गया है, हालांकि जीएसटी से पहले विनिर्माण खंड में माल निकाले जने व इसके जीडीपी पर असर को लेकर खूब चर्चा हो रही थी लेकिन उपभोक्ता व निवेश केंद्रित क्षेत्रों में तो माल निकासी 2016-17 में पहले ही जोर पकड़ रही थी रपट में 1695 सूचीबद्ध फर्मों के आंकड़ों का विश्लेषण किया गया है. इसमें कहा गया है कि 2016 17 में पहले ही नरमी थी जिसमें कंपनियों ने अपने मौजूदा भंडार को निकालने पर जोर दिया. इसमें कहा गया है कि 2016-17 में सामान्य नरमी व अनिश्चित महौल से निवेश केंद्रित क्षेत्रों पर अधिक असर पड़ा. वहीं उपभोक्ता केंद्रित क्षेत्र नोटबंदी के कारण प्रभावित हुए.इसके अनुसार विभिन्न तथ्यों को मिलाकर देखा जाए तो ‘जीडीपी वृद्धि के आने वाली तिमाहियों में पटरी पर लौटने की उम्मीद नहीं है बल्कि अगले वित्त् वर्ष की पहली तिमाही में ही वृद्धि पटरी पर आ सकती है।इस सप्ताह तीन आईपीओ, 6600 करोड़ रुपये जुटने की उम्मीद: इस सप्ताह तीन कंपनियों; मैट्रीमनी.कॉम, कैपेसाइट इन्फ्राप्रोजेक्ट्स तथा आईसीआईसीआई लोम्बार्ड के आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) आएंगे. इन आईपीओ से कुल 6,600 करोड़ रुपये जुटने की उम्मीद है. आनलाइन मैच मेकिंग पोर्टल मैट्रीमनी.कॉम का आईपीओ 11 सितंबर को खुलकर 13 सितंबर को बंद होगा. आईपीओ के तहत 130 करोड़ रुपये के नए शेयर जारी किए जाएंगे और 37.67 लाख इक्विटी शेयरों की बिक्री पेशकश की जाएगी. कंपनी के आईपीओ से 500 करोड़ रुपये जुटने की उम्मीद है. आईपीओ के लिए मूल्य दायरा 983 से 985 रुपये प्रति शेयर तय किया गया है। कंपनी ने शुक्रवार को एंकर निवेशकों से 226 करोड़ रुपये जुटाए थे. इंजीनियरिंग कंपनी कैपेसाइट इन्फ्राप्रोजेक्ट्स का आईपीओ 13 सितंबर को खुलकर 15 सितंबर को बंद होगा. आईपीओ के लिए मूल्य दायरा 245 से 250 रुपये प्रति शेयर तय किया गया है. कंपनी को आईपीओ से 400 करोड़ रुपये जुटने की उम्मीद है। इसी के साथ आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस कंपनी के आईपीओ के लिए मूल्य दायरा 651 से 661 रुपये प्रति शेयर रखा गया है. इस आईपीओ से 5,700 करोड़ रुपये जुटने की उम्मीद है. यह किसी साधारण बीमा कंपनी का पहला निर्गम होगा. आईपीओ 15 सितंबर को खुलकर 19 सितंबर को बंद होगा. इस साल अभी तक 19 कंपनियों के आईपीओ आए हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *