जीएसटी ने घर खरीद के निर्णय को प्रभावित किया: मैजिकब्रिक्स सर्वे

नोएडा, 3 अक्टूबर(एजेन्सी)। भारतीय रियल एस्टेट में माल और सेवा कर (जीएसटी) को लागू किए जाने के कारण घरेलू खरीदार काफी प्रभावित किया है। मैजिकब्रिक्स के एक ग्राहक सर्वेक्षण में 67 प्रतिशत घरेलू खरीदारों का कहना था कि पिछले एक वर्ष के दौरान कर नीति ने उनके घर खरीदने के निर्णय को प्रभावित किया है क्योंकि अब अधिकांश ग्राहक निर्माणाधीन संपत्तियों के बजाय रेडी-टू-मूव-इन संपत्तियों को खोज रहे हैं। मैजिकब्रिक्स के उपभोक्ता सर्वेक्षण में उत्तर देते हुए उपभोक्ता इस बात को लेकर स्पष्ट थे कि कर खरीद के निर्णय को प्रभावित करते हैं। वर्तमान में किसी खरीदार को कोई रेडी-टू-मूव-इन प्रॉपर्टी खरीदते समय कोई जीएसटी नहीं चुकानी पड़ती है जबकि निर्माणाधीन संपत्तियों के लिए व्यक्ति को 12 प्रतिशत कर चुकाना पड़ता है। 50 लाख रुपए कीमत के एक घर पर जीएसटी का शुल्क 6 लाख रुपए तक होगा। इस कर के कारण बहुत से लोगों ने निर्माणाधीन संपत्तियों के बजाय रेडी-टू-मूव-इन इकाइयों का विकल्प चुना जबकि पहले निर्माणाधीन संपत्तियों को एक सस्ता विकल्प माना जाता था। इस रूझान पर टिप्पणी करते हुए जयश्री कुरुप, संपादक, मैजिकब्रिक्स ने कहा कि आज उपभोक्ता एक ऐसा अंतिम प्रयोक्ता है जो रहने के लिए घर ढूंढ रहा है। घर की कीमत में कमी कर सकने वाली किसी भी छूट को उपभोक्ता लपक लेते हैं। काम पूरा हो चुके घरों पर जीएसटी में छूट के साथ सरकार ने रेडी-टू-मूव-इन और निर्माणाधीन श्रेणियों की कीमतों में अंतर पैदा कर दिया है। ज्यादातर लोगों के जीवन की सबसे बड़ी खरीद होने के कारण रियल एस्टेट पर बचत का उपभोक्ताओं द्वारा हमेशा स्वागत किया जाता है। मैजिकब्रिक्स के आंकड़े अपने उपयोग के लिए घरों की कीमतों को कम करने की उपभोक्ताओं की मांग का समर्थन करते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *