एचसीएल ने किया ‘सीएसआर फॉर नेशन बिल्डिंग का आयोजन

जोधपुर, 14 मई(एजेन्सी)। एचसीएल टेक्नॉलॉजीज़ के सीएसआर अंग, एचसीएल फाउंडेशन ने सोमवार को जोधपुर के कमला नेहरू नगर में अपनी वार्षिक ‘एचसीएल ग्रांट सीएसआर सिंपोजिय़म के तीसरे संस्करण का आयोजन किया। इसका उद्देश्य राजस्थान में और आसपास काम करने वाली एनजीओ का क्षमता निर्माण करना था। दिन-भर चली यह ईवेंट एचसीएलएफ द्वारा भारत में आयोजित सिंपोजिय़म्स की श्रृंखला का हिस्सा थी। इसमें स्थानीय एनजीओ प्रतिनिधियों और सिविल सोसायटी विशेषज्ञों के साथ एक पैनल वार्ता शामिल थी। इस वार्ता का विषय एचसीएल ग्रांट के विषयात्मक क्षेत्र, जैसे पर्यावरण, स्वास्थ्य एवं शिक्षा के संदर्भ में सतत विकास के लक्ष्यों के पांच तत्व, लोग, गृह, संपन्नता, शांति एवं साझेदारी के साथ सीएसआर के संबंध की खोज था। इस ईवेंट में राज्य के अनेक क्षेत्रों व हिस्सों का प्रतिनिधित्व करने वाले 40 से ज्यादा एनजीओ ने हिस्सा लिया। महिला पीजी महाविद्यालय की चेयरमैन, प्रोफेसर पी. एम. जोशी मुख्य अतिथि के रूप में समारोह में शामिल हुईं और उन्होंने स्वागत भाषण दिया। मिस निधि पुंधीर, डायरेक्टर-एचसीएल फाउंडेशन ने क हा कि एचसीएल फाउंडेशन पर हम फिफ्थ इस्टेट यानि नॉन गवर्नमेंट संगठनों की शक्ति में यकीन करते हैं। एचसीएल ग्रांट सिंपोजिय़म्स द्वारा हम सभी स्टेकहोल्डर्स-एनजीओ, सरकार, कॉर्पोरेट्स और नीति निर्माताओं को एक मंच पर एकत्रित करते हैं। सिपांजिय़म में संवाद और चर्चा द्वारा, एनजीओ को सीएसआर एवं सतत विकास के उद्देश्य (एसडीजी) प्राप्त करने में यह साझेदारी क्या भूमिका अदा करती है, इसकी गहरी समझ प्राप्त होती है। हम शिक्षा, स्वास्थ्य एवं पर्यावरण के सेक्टरों में जमीनी स्तर पर एनजीओ द्वारा किए जाने वाले उल्लेखनीय कार्यों में सहयोग के लिए समर्पित हैं। हमारा मानना है कि सिंपोजिय़म्स एनजीओ को इस सेक्टर में सकारात्मक परिणाम के लिए समर्थ बनाएंगे और राष्ट्र के निर्माण में उनका सहयोग करेंगे। राजस्थान से हमारा विशेष जुड़ाव है, जिसके कारण हम हर साल इस राज्य में वापस आते हैं। यह लगातार तीसरा साल है, जब एचसीएल फाउंडेशन ने राज्य में सिंपोजिय़म का आयोजन किया है। हमें 2017 में जयपुर में और 2018 में उदयपुर में आयोजित की गई सिंपोजिय़म के लिए बहुत शानदार प्रतिक्रिया मिली। राजस्थान में शिक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण के क्षेत्र में कई अच्छी एनजीओ काम कर रही हैं और इसीलिए फाउंडेशन को उम्मीद है कि यहां पर सिंपोजिय़म के आयोजन से क्षेत्र में काम करने वाली एनजीओ को लाभ मिलेगा।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *