एचडीएफसी बैंक ने ‘इंडस्ट्री एकेडेमिया लॉन्च किया

मुंबई, 29 सितंबर (एजेन्सी)। एचडीएफसी बैंक के सेंटर ऑफ डिजिटल एक्सिलेंस (कोड) ने ‘इंडस्ट्री एकेडेमियाÓ लॉन्च किया। देश में अपनी तरह का यह पहला अभियान फिनटेक और स्टार्टअप्स को मेंटर करके देश के सर्वोच्च टेक्निकल एवं बी-स्कूलों में इन क्यूबट करेगा। इसका लक्ष्य इन संस्थानों में प्रारंभिक चरण में इंटर प्रेन्योरशिप सेल्स और इन्क्यूबेशन के समय संभावना युक्त विचारों को पहचानना और उन्हें ग्राहकों के लिए तैयार उत्पाद में विकसित करने में मदद करना है। बैंक विभिन्न कार्यों जैसे ग्राहक अनुभव पर स्टार्ट-अप्स को मेंटर करने, मार्केट के समय एवं खर्च को कम करने के लिए अपनी डोमेन की विशेषज्ञता का उपयोग करेगा। बदले में स्टार्टअप्स को विशेषज्ञ जानकारी एवं ज्ञान के साथ अपने विचारों को वास्तविक रूप देने के लिए बैंक का मंच मिलेगा। ‘इंडस्ट्री एकेडेमिया का लॉन्च मुंबई में आयोजित एक ईवेंट में प्रो.मनीष खंडे, डीन-इन्क्यूबेशन एण्ड इनोवेशन-आईआईटी, रुड़की, प्रो. आनंद कुसरे-हेड, देसाई सेठी सेंटर फॉर इंटर प्रेन्योरशिप, आईआईटी बॉम्बे के साथ नितिन चुग, कंट्री हेड-डिजिटल बैंकिंग, एचडीएफसी बैंक ने किया। नितिन चुग, कंट्री हेड-डिजिटल बैंकिंग, एचडीएफसी बैंक ने कहा कि हमें टॉप टियर संस्थानों के साथ साझेदारी करने की खुशी है। हमारा हमेशा से विश्वास है कि विचारों के आदान-प्रदान और ज्ञान से इनोवेशन की संस्कृति का विकास होता है। कोड इंडस्ट्री एकेडेमिया इस दिशा में अगला बड़ा कदम है और यह देश में इनोवेशन की संस्कृतिको अगले पायदान पर ले जाएगा। प्रो. आनंद कुसरे ने कहा कि नए तकनीकी विकास उच्च प्राथमिकता वाले लक्ष्य जैसे समावेशन, बेहतर ग्राहक सेवा एवं स्केल प्राप्त करने के लिए आवश्यक हैं। प्रो. मनीष श्री खंडे ने कहा उद्योग और एकेडेमिया के बीच व्यवहार में पारस्परिक विकास की अपार संभावना है। आमतौर पर एकेडेमिक शोध कुछ विद्वता पूर्ण प्रकाशनों के साथ सिद्धांत के चरण में प्रमाण पर जाकर समाप्त हो जाती है और ऐसा विरले ही होता है कि ये विचार किसी उत्पाद या प्रोटोटाईप के रूप में विकसित हो पाएं, तो अपनाए जाने के लिए तैयार हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *