यहां नवरात्रि को कहते हैं गोलू, जानिए अलग-अलग राज्यों में कैसे मनाई जाती है दुर्गा पूजा

देशभर में नवरात्रि के दौरान होने वाली दुर्गा पूजा अलग-अलग प्रदेशों में विभिन्न तरीकों से मनाई जाती है। हालांकि कोलकाता में मनाई जाने वाली दुर्गा पूजा सबसे ज्यादा मशहूर है। नवरात्रि में हर घऱ में दुर्गा मां की पूजा की जाती है, इतना ही नहीं गांव-शहर, गली-मोहल्लों और चौराहों पर दुर्गा मां की विशाल प्रतिमा रखकर सुबह शाम पूजा-अर्चना करते हैं। पूरा देश भक्तिमय माहौल में परिवर्तित हो जाता है। न सिर्फ घरों में बल्कि मंदिरों में सैकड़ों-हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ जुट जाती है।

आज हम आपको बता रहे हैं देश के किन प्रदेशों कैसे मनाई जाती है नवरात्रि?

1. तमिलनाडु-तमिलनाडु में नवरात्रि को ‘गोलू’ नाम से जाना जाता है। देवी की आराधना के लिए लोग अपने घरों में 100 छोटी-बड़ी मूर्तियां रखते हैं। जब ये मूर्तियां एक ही पंडाल में रखी जाती है तो यह नजारा किसी म्यूजियम जैसा दिखता है। यहां लोग देवी के तीन रूपों की आराधना करते हैं।
2. पश्चिम बंगाल -नवरात्रि में पश्चिम बंगाल की दुर्गा पूजा दुनियाभर में सबसे प्रसिद्ध है। पश्चिम बंगाल सहित पूर्वोत्तर के कुछ हिस्सों में नवरात्रि का खास महत्व है। नवरात्रि के लिए खास तौर पर पंडाल तैयार किए जाते हैं। नौ दिनों तक लोग मां दुर्गा और नारी शक्ति की आराधना करते हैं। पंडालों में लोगों की खूब भीड़ जुटती है और विशेष आरती की जाती है। इन पंडालों में देवी दुर्गा के नौ रूपों की मूर्तियां रखी जाती हैं। इस दौरान बंगाली महिलाएं अपने पारंपरिक वेष-भूषा में तैयार होकर पंडालों में दर्शन आदि करने जाती हैं।
3. गुजरात-गुजरात में नवरात्रि के दौराना सबसे ज्यादा गरबा महोत्सव का आयोजन किया जाता है। इस मौके पर पारंपरिक गुजराती ड्रेस में पुरुष-महिला के जोड़े एक साथ गरबा पंडालों में गीत-संगीत की धुन पर नृत्य करते हैं। गरबा पंडालों को खासतौर पर सजाया किया जाता है। गरबा महोत्सव के दौरान मां दुर्गा की आराधना की जाती है। इसमें हिस्सा लेने के लिए लोग खास तौर पर तैयारी करते हैं। इतना ही नहीं, बल्कि करीब एक महीने पहले से ही ट्रेनिंग भी लेते हैं। आजकल गरबा का क्रेज देश के कई शहरों में बढ़ता जा रहा है। जिससे अन्य प्रदेशों में भी इसका चलन बढ़ गया है। मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में भी गरबा नृत्य प्रचलित हो चुका है।
4. महाराष्ट्र-नवरात्रि में महाराष्ट्र के लोग कार, घर और प्रॉपर्टी को खरीदना शुभ मानते हैं। नवरात्रि के दौरान शादीशुदा महिलाओं को एक दूसरे के घर आमंत्रित करते हैं और उन्हें सिंगार की चीजे जैसे- सिंदूर, चूड़ी और बिंदी आदि तोहफे के रूप में देते हैं। हालांकि महाराष्ट्र में कई प्रदेशों के लोग जाकर बसे हुए हैं तो इस वजह से वहां पर भी गुजरात और कोलकाता की झलक देखने को मिल जाती है।
5. कर्नाटक-कर्नाटक के मैसूर शहर का दशहरा पूरे देश में मशहूर है। नवरात्रि के आखिरी दिन हाथियों को सोने-चांदी के गहनों से सजाया जाता है और मैसूर के राजमहल (मैसूर पैलेस) की खासतौर पर लाइटिंग की जाती है।
6. केरल-केरल में नवरात्रि पर्व के आखिरी तीन दिनों अष्ठमी, नवमी और दशहरा का खास महत्व है। देश में 100 फीसदी लिटरेसी वाले राज्य में लोग देवी सरस्वती के पास दो दिन तक अपनी किताबें रखते हैं और इन्हें दशहरा के दिन उठाते हैं। इस दौरान लोग अपने लिए अच्छी बुद्धि और कामयाबी की कामना करते हैं।
7. उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड-उत्तर भारत के कई राज्यों में नवरात्रि के दौरान देवी मां की मूर्ति स्थापित की जाती है। इस दौरान खास तौर पर आरती और पूजन किया जाता है। इसके साथ ही कलाकारों के द्वारा रामलीला की प्रस्तुति दी जाती है। जिसमें भगवान श्रीराम लंका के राजा रावण का वध करते हैं। नौ दिन रामलीला के मंचन के बाद दशहरे के मौके पर रावण, मेघनाद और कुंभकर्ण के पुतले जलाए जातें हैं। इसे असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक माना जाता है।
8. पंजाब-पंजाब में नवरात्रि को अलग ही तरीके से मनाया जाता है। यहां लोग पहले सात दिन तक व्रत रखते हैं, इस दौरान जगराते का आयोजन किया जाता है। देवी दुर्गा के पूजन के साथ 8वें दिन भंडारे कराते हैं और 9 कन्याओं को भोजन कराने के बाद व्रत खोला जाता है। इन कन्याओं को दान और लाल चुनरी भेंट की जाती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *