हिल्टी प्रतिनिधिमंडल ने किया बीएसडीयू जयपुर का दौरा

जयपुर, 21 नवंबर(एजेन्सी)। हिल्टी के प्रतिनिधिमंडल ने भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी (बीएसडीयू), जयपुर का दौरा किया, जहां आरयूजेसीटी के प्रेसीडेंट ट्रस्टी जयंत जोशी और बीएसडीयू के प्रेसीडेंट डॉ (ब्रि) सुरजीतसिंह पाब्ला ने उन्हें संस्थान का दौरा कराया। प्रतिनिधिमंडल के समक्ष बीएसडीयू की सुसज्जित प्रयोगशालाओं, कौशल प्रशिक्षण मॉड्यूल और अंतरराष्ट्रीय मानक संकाय का प्रदर्शन किया गया। इस यात्रा का उद्देश्य अप्रेन्टिसशिप साझेदारी का पता लगाना था, जिसके तहत हिल्टी बीएसडीयू के छात्रों को इंटर्नशिप के अवसर प्रदान कर सकता है। इस दौरान प्रतिनिधिमंडल ने बी. वोक. में दिए जा रहे प्रशिक्षण की प्रक्रिया और गहराई को बेहतर ढंग से समझने के लिए छात्रों और संकाय सदस्यों के साथ बातचीत भी की। हिल्टी के प्रतिनिधिमंडल में हिल्टी हेड क्वार्टर लिचेंस्टीन के हैड-वोकेशनल ट्रेनिंग रेमो क्लाउसर, हिल्टी गुजरात और लिचेंस्टीन के टैक्नीकल प्रोजेक्ट मैनेजर डाइटमार बाइंडर और हिल्टी गुजरात के डिप्टी मैनेजर प्रोडक्शन केतन राठोड शामिल थे। बीएसडीयू के प्रेसीडेंट डॉ (ब्रि) सुरजीतसिंह पाब्ला कहते हैं कि दुनिया भर में फास्टनिंग टेक्नोलॉजी और सॉल्यूशंस व पावर टूल्स प्रदाता के तौर पर हिल्टी विश्व स्तर पर एक जाना-माना नाम है। हमें हिल्टी के प्रतिनिधिमंडल का स्वागत करते हुए बेहद प्रसन्नता हुई है और हमें यकीन है कि इस तरीके से एक गहन साझेदारी विकसित हो सकेगी और एक ऐसा बेहतरीन स्किल ईकोसिस्टम तैयार किया जा सकेगा, जहां बीएसडीयू से प्रशिक्षित छात्र राष्ट्र की तरक्की के साथ-साथ व्यावसायिक विकास की दिशा में भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकेंगे। हम चाहते हैं कि हमारे छात्र विनिर्माण के वैश्विक मानकों से जुडें और हिल्टी के साथ साझेदारी करना भी हमारी एक और महत्वपूर्ण उपलब्धि होगी। हिल्टी के प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि हिल्टी का लक्ष्य अपने ग्राहकों को हाई एंड प्रोडक्शन क्वालिटी और निरंतर आर एंड डी के माध्यम से गुणवत्ता समाधान प्रदान करना है। हमें यह बहुत महत्वपूर्ण लगा कि उद्योग 4.0, 3 डी प्रिंटिंग और मॉडलिंग, रोबोटिक्स और स्थायित्व जैसी अवधारणाओं को बीएसडीयू के प्रशिक्षण मॉड्यूल में अच्छी तरह से शामिल किया गया है। हमें लगता है कि उच्चतम गुणवत्ता वाले उत्पादों को केवल तभी हासिल किया जा सकता है, जब कर्मचारियों की प्रतिभा को बेहतर तरीके से पोषित किया जाए।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *