खुशखबरी: एसबीआई ने होम लोन पर ब्याज दर घटाई, कार लोन भी हुआ सस्ता

नई दिल्ली। एसबीआई ने आवास पर ब्याज दर 0.05 प्रतिशत घटाकर 8.30 प्रतिशत पर कर दिया है। वाहन ऋण भी 0.05 कटौती के साथ 8.70 प्रतिशत कर दिया गया है। इससे एसबीआई से मकान या वाहन के लिए कर्ज लेने वालों की ईएमआई कम होगी। इस कटौती के बाद सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक के आवास ऋण पर ब्याज दर बैंकिंग उद्योग में सबसे कम हो गई है। ये नई दरें एक नवंबर 2017 से प्रभावी होगी। स्टेट बैंक के इस फैसले के बाद अन्य बैंक भी ब्याज दर में कटौती कर सकते हैं। एसबीआई ने गुरुवार को एक बयान में कहा कि इस कटौती के साथ एसबीआई अब बाजार में सबसे कम ब्याज दर पर आवास ऋण की पेशकश कर रहा है। एसबीआई ने कोष की सीमांत लागत पर आधारित ऋण ब्याज दर (एमसीएलआर) में कटौती करने के बाद ब्याज दरों में यह कमी की है। एमसीएलआर दर में 10 महीने बाद एसबीआई ने यह कटौती की है। इससे पहले एक जनवरी को इसमें कटौती की गई थी। दरों में कटौती पर एसबीआई के खुदरा बैंकिंग प्रबंध निदेशक पी के गुप्ता ने कहा कि दरों में कमी के साथ हम खुदरा ऋणों में हमारे अधिकांश उत्पाद के लिए सबसे कम दर की पेशकश कर रहे हैं। व्यापक वितरण तंत्र के साथ कम दरों और बेहतर ग्राहक अनुभव के लिए डिजिटल तकनीक का उपयोग किसी भी खुदरा ऋण ग्राहक के लिए एक आदर्श पैकेज है।
30 लाख रुपये तक होम लोन पर लाभ
30 लाख रुपये तक के आवास ऋण पर 8.30 प्रतिशत सालाना दर से ब्याज की प्रभावी दर होगी। आवास ऋण पर 8.30 प्रतिशत की ब्याज दर के अलावा ग्राहक प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 2.67 लाख रुपये की ब्याज सब्सिडी भी प्राप्त कर सकते हैं। बैंक ने अन्य सभी ऋण खंड में भी दरों में 0.05 प्रतिशत की कमी की है। कार ऋण पर ब्याज दर क्रेडिट स्कोर पर निर्भर करेगी कार ऋण लेने वाले ग्राहकों के लिए ब्याज दर का दायरा 8.70 से 9.20 प्रतिशत के बीच होगा, जो पहले 8.75-9.25 प्रतिशत था। सही दर कर्ज की राशि और कर्ज लेने वाले के क्रेडिट स्कोर पर निर्भर करेगी।
दिसंबर में और घट सकती है ईएमआई
महंगाई स्थिरता को देखते हुए रिजर्व बैंक छह दिसंबर की मौद्रिक समीक्षा बैठक में नीतिगत ब्याज दरों में 0.25 फीसदी की कटौती कर सकता है। इससे बैंक भी ब्याज दर घटाएंगे और उसका सीधा फायदा ग्राहकों को ईएमआई कम होने से मिलेगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *