अब डर तो ट्रोल न होने पर लगता है वरुण धवन

बॉलिवुड के नए-नवेले सुपरस्टार वरुण धवन लगातार सफलता की सीढ़ी चढ़ रहे हैं। अपने शानदार करियर के इस सफर पर खास बातचीत में वरुण ने अपनी सफलता, संघर्ष, फिल्मों की धुआं-धार कमाई, समय के साथ बढ़ती जिम्मेदारी और लगातार बेहतर परफॉर्म करने की चाह पर बात की। बॉलिवुड में वंशवाद यानी नेपोटिजम की परंपरा को मानते, जानते और अच्छी तरह समझते हुए वरुण कहते हैं, ‘वैसे फिल्म इंडस्ट्री में करियर बनाने में मुझे किसी तरह का कोई संघर्ष नहीं करना पड़ा क्योंकि मेरे पिता ने खूब काम कर अपनी जगह बना ली थी और मेरे लिए रास्ता बेहद आसान हो गया, लेकिन अब सबसे मुश्किल काम है आसानी से मिली इस स्टारडम की कुर्सी को संभाल कर रखना। इस कुर्सी को बचाए और बनाए रखने के लिए मेहनत तो करनी पड़ती है। बाहर सारे ऐक्टर्स के बच्चे फिल्म में आते हैं, लेकिन गायब भी हो जाते हैं।
आज मैं बड़े लेवल पर परफॉर्म कर रहा हूं। तमाम प्रड्यूसर और डायरेक्टर मुझ पर ट्रस्ट कर रहे हैं
सफल आदमी लगातार मिल रही सफलता के बाद भी एक संघर्ष तो करता ही है। अपनी बात बढ़ाते हुए वरुण कहते हैं, ‘ऐसा नहीं है कि मुझे अपना करियर बनाने में किसी भी तरह के चैलंज का सामना न करना पड़ा हो। बहुत मेहनत लगती है, यह सब मेंटेन करने और आगे बढ़ते रहने में। मैं काम में लगने वाली मेहनत के बारे में बात नहीं करता, क्योंकि यह मेहनत तो मुझे करनी ही है। आज मैं बड़े लेवल पर परफॉर्म कर रहा हूं। तमाम प्रड्यूसर और डायरेक्टर मुझ पर ट्रस्ट कर रहे हैं। दर्शक मेरी वजह से फिल्म देखने आती है और इन सब चीजों को समय के साथ और भी बेहतर बनाए रखने के लिए काम तो करना ही पड़ेगा, बिना मेहनत और स्ट्रगल के कोई अपना टाइम खराब नहीं करेगा मेरे लिए।
बहुत सारे ऐक्टर्स हैं जो फिल्म इंडस्ट्री के होने के बाद भी नहीं चलते हैं
वरुण आगे कहते हैं, मुझे अपने संघर्ष या चैलंज के बारे में बात करके लोगों की फ्री वाली सहानभूति नहीं चाहिए। मैं यह भी अच्छी तरह जानता और समझता हूं कि मेरी जिंदगी तमाम और लोगों से कई मामले में बहुत बेहतर है, ज्यादा आसान है और मुझे फिल्म जगत में खुद को साबित करने के लिए बहुत मदद भी मिली है… क्योंकि मेरे पिता जी ने बहुत काम कर अपना नाम बना लिया था। मुझे पिताजी की गुडविल का फायदा तो बहुत हुआ है, लेकिन फिर वही बात है कि मेहनत भी करनी पड़ती है। यहां कोई किसी को फ्री में नहीं चलाता है। बहुत सारे ऐक्टर्स हैं जो फिल्म इंडस्ट्री के होने के बाद भी नहीं चलते हैं।
लोगों की फिल्म में काम करने से इंकार करने के लिए डेट्स न होने का बहाना बनाता हूं
वरुण को लिए आज सबसे मुश्किल काम हो गया है, तमाम लोगों को उनकी फिल्म में काम न कर पाने से इंकार करना। वरुण कहते हैं, ‘इस समय मेरे लिए सबसे मुश्किल टास्क होता है कि जिन लोगों से जान-पहचान है, उनकी कहानियों पर काम करने के लिए न कैसे कहूं। बहुत ज्यादा दिक्कत होती है लिए। पहले दिक्कत थी कि अच्छी कहानियां मिलती रहें, लगातार फिल्मों में काम मिलता रहे और अब जब बहुत काम मिलता है, तब दिक्कत इस बात की होती है कि अच्छी फिल्मों का चुनाव कैसे किया जाए। लोगों को उनकी फिल्म में काम करने से इंकार करने के लिए मैं डेट्स न होने का बहाना बनाता हूं।
वेब में तभी काम करूंगा जब कुछ ऐसा होगा जो आउट ऑफ द बॉक्स होगा
कई बड़े ऐक्टर्स का झुकाव इन दिनों वेब सीरीज पर भी है। वरुण कहते हैं, ‘मुझे तो वेब सीरीज में काम करने के लिए भी खूब इंट्रेस्ट है, लेकिन वेब में तभी काम करूंगा जब कुछ ऐसा होगा जो आउट ऑफ द बॉक्स होगा, मतलब कुछ बहुत ज्यादा अच्छा होना चाहिए।
बिटिया के साथ समय बिताने की खुशी किसी फिल्म की सफलता या बहुत पैसा मिलने से कहीं बढ़कर है
अपनी सफलता पर बात करते हुए वरुण कहते हैं, ‘हर किसी की तरह ही सक्सेस और फेलियर मेरे लिए भी मायने रखता है, लेकिन असली सफलता परिवार का प्यार है। अभी-अभी मैं चाचा बन गया हूं… तो आज-कल मुझे सबसे ज्यादा खुशी अपनी नन्ही सी भतीजी के साथ रहने पर मिलती है। बिटिया के साथ समय बिताने की खुशी किसी फिल्म की सफलता या बहुत पैसा मिलने से कहीं बढ़कर है।
अब बच्चा तो नहीं हूं, जिम्मेदारियों को भी भली-भांति समझ रहा हूं
समय के साथ अपनी ग्रोथ पर बात हुए वरुण ने कहा, ‘अब मेरी पर्सनल लाइफ में भी बदलाव आया है। जब इंडस्ट्री में आया था तब एक छोटे बच्चे की तरह एंट्री हुई थी, लेकिन अब मैं बड़ा हो रहा हूं। बड़े होने के साथ-साथ अपनी जिम्मेदारियों को भी भली-भांति समझ रहा हूं। अब बच्चा तो नहीं हूं। अब मुझे और भी ज्यादा जिम्मेदार होना है।
अब डर तो ट्रोल न होने पर लगता है
सोशल मीडिया और ट्रोलिंग जैसी बातों पर बेहद पॉजिटिव जवाब देते हुए वरुण ने कहा, अपना सोशल मीडिया तो मैं खुद ही हैंडल करता हूं। मेरे सोशल मीडिया में जो भी स्पेलिंग मिस्टेक होता है सब मैं ही करता हूं। अगर मेरा सोशल मीडिया कोई और हैंडल कर रहा होता तो स्पेलिंग में कोई गलती नहीं होती। अब उसे हैंडल करना बहुत मुश्किल होता जा रहा है। मेरे फॉलोवर्स लगातार बढ़ते जा रहे हैं। सोशल मीडिया में होने वाली ट्रोलिंग से मुझे बिल्कुल भी डर नहीं लगता है। अब डर तो ट्रोल न होने पर लगता है। ट्रोल हो रहे हो इसका मतलब है आप परफॉर्म कर रहे हो।
90 के दशक में जो प्रतियोगिता होती थी वह अब नहीं रही
समय के साथ बदली कहानियां और काम करने के तरीकों पर वरुण ने कहा, ‘आज ऐसा भी नहीं रह गया है कि इंडस्ट्री में सिर्फ टॉप 3 या 4 डायरेक्टर रह गए हों। आज एकदम नया डायरेक्टर भी बहुत अच्छी फिल्म बना रहा है। अब फिल्म स्त्री ही देख लिए, वह एक नए डायरेक्टर की फिल्म है, लेकिन खूब चल रही है। mऔर बेहतरीन फिल्म बनी है। आज विषय और उसका कॉन्टेंट सबसे महत्वपूर्ण हो गया है। मेरे साथ तो ऐसा है की जिस फिल्म में काम करना चाहता हूं, वह मुझे मिल रही हैं। कोई ज्यादा प्रतियोगिता नहीं है। इसकी वजह यह भी है कि वेब जैसे प्लेटफॉर्म भी बढ़ गए हैं। 90 के दशक में जो प्रतियोगिता होती थी वह अब नहीं रही।’

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *