प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्रों की चिकित्सा सुविधाओं को बेहतर बनाने के साथ ही विशेषज्ञ चिकित्सा सेवाओं को सुदृढ़ किया जायेगा-डॉ. शर्मा

जयपुर, 2 जनवरी (का.सं.)। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने कहा कि प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्रों की चिकित्सा सुविधाओं को बेहतर बनाने के साथ ही विशेषज्ञ चिकित्सा सुविधाओं को भी सुदृढ़ किया जायेगा । उन्होंने बताया कि उदयपुर कोटा और अजमेर के राजकीय मेडिकल कालेजों में एमबीबीएस की 100.100 सीटें बढ़ाने के साथ ही स्नातकोत्तर सीटों में भी वृद्धि के प्रस्ताव बनाये गये हैं। सवाई मानसिंह चिकित्सालय में आईसीयू बेड्स की संख्या में बढ़ोतरी के साथ ही अन्य मेडिकल कालेजों में आईसीयू के बेड्स बढ़ाने की कार्यवाही प्रारम्भ की जा रही है। डॉ. शर्मा बुधवार को शासन सचिवालय में आयोजित चिकित्सा शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक में यह जानकारी दे रहे थे। उन्होने कहा कि सवाई मानसिंह चिकित्सालय पर मरीजों के भारी दबाव को ध्यान में रखते हुये एसएमएस मेडिकल कालेज से संबद्ध सभी 11 चिकित्सालयों में चिकित्सा व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले मरीजों की सुविधा के लिये शहर के आसपास के कस्बों में चिकित्सा सुविधाओं को भी सुदढ़ किया जायेगा। चिकित्सा मंत्री ने चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों को मेडिकल कालेजों में रिक्त चिकित्सकों व अन्य चिकित्साकर्मियों के रिक्त पदों को यथाशीघ्र पूर्ण पारदर्शी तरीके से भरने के निर्देश दिये। उन्होंने बीकानेर कोटा व उदयपुर में बने सुपरस्पेशियलिटी ब्लाक की तर्ज पर जयपुर अजमेर एवं जोधपुर में भी सुरस्पेशियलिटी ब्लाक बनाने के लिये आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि मरीजों की संख्या एवं उनकी सुविधाओं को ध्यान में रखते हुये राजकीय चिकित्सालयों के संसाधनों में आवश्यक वृद्धि की जाये।डॉ.रघु शर्मा ने चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में अनुसंधान कार्यक्रमों को बढ़ाने की आवश्यकता प्रतिपादित की। उन्होंने कहा कि अनुसंधान बढ़ाने के लिये आवश्यकतानुसार चिकित्सा महाविद्यालयों में मल्टीडिसीप्लीनरी रिसर्च यूनिट स्थापित की जाये। उन्होंने प्रदेश में चिकित्सकों की कमी को दूर करने के लिये एमबीबीएस की सीटों में वृद्धि के लिये आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। बैठक में बताया गया कि प्रदेश में इस समय राजकीय चिकित्सा महाविद्यालयों में एमबीबीएस की 1910 व स्नातकोत्तर की 1154 तथा सुपरस्पेशियलिटी की कुल 106 सीटें उपलब्ध हैं। निजी 8 चिकित्सा महाविद्यालयों में एमबीबीएस की 1150 व पीजी की 539 व सुपरस्पेशियलिटी की कुल 49 सीटें उपलब्ध हैं। एसएमएस के आईसीयू बेड्स की संख्या में होगी वृद्धि चिकित्सा मंत्री ने प्रदेश के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल में आईसीयू बेड्स की संख्या 286 को बढ़ाने के लिये प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने प्रदेश के अन्य मेडिकल कालेजों में आवश्यकतानुसार आईसीयू बेड्स की संख्या बढ़ाने पर बल दिया। उन्होंने मल्टीपल आर्गन ट्रांस्प्लांट इंस्टीट्यूट स्थापित करने में हुयी प्रगति की समीक्षा की एवं 200 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले इस इंस्टीट्यूट का समस्त कार्य पूर्ण गुणवत्ता से समय पर पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने मेडिकल कालेजों में बनने वाले सुपरस्पेशियलिटी ब्लाक के निर्माण में हुयी प्रगति की भी समीक्षा की।निर्माणाधीन मेडिकल कालेजों की समीक्षा डॉ. रघु शर्मा ने निर्माणाधीन नये मेडिकल कालेजों के निर्माण कार्यों एवं उपकरणों की स्थापना के कार्यों की विस्तार से समीक्षा कर समय पर सभी कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि इन तीन नये मेडिकल कालॅजों के शुरू होने से एमबीबीएस की सीटों 300 सीटों की वृद्धि हो सकेगी। उन्होंने स्वाईन फ्लू के रोगियों के उपचार के लिये एसएमएस सहित अन्य मेडिकल कालेजों में एक्मो मशीन की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिये। बैठक में प्रमुख शासन सचिव चिकित्सा शिक्षा श्री हेमन्त गेरा मेडिकल कालेज प्रिसिपल डॉ.सुधीर भंडारी अधीक्षक डॉ. डीएस मीणा सहित चिकित्सा शिक्षा निदेशालय के वरिष्ट अधिकारीगण मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *