कोविड-19 से पहले ही बुरे दौर से गुजर रही थी भारतीय अर्थव्यवस्था

नई दिल्ली। भारतीय अर्थव्यवस्था कोविड -19 महामारी के पहले से ही अपने सबसे खराब मंदी के चरणों से गुजर रही थी। जीडीपी की ग्रोथ बीती आठ तिमाहियों में लगातार गिरी है। सिर्फ दिसंबर 2018 और मार्च 2019 के बीच .08 फीसदी का सुधार दिखा था। ये मार्च 2018 में 8.2 फीसदी थी, जो मार्च 2020 में 3.1 फीसदी पर पहुंच गई है। मार्च में एक हफ्ते का लॉकडाउन था। ये लॉकडाउन 68 दिनों तक चला। हालांकि, अब इसमें छूट दी जा रही है। यहां तक कि महामारी की पूरी ताकत से असर दिखाने से पहले भारतीय अर्थव्यवस्था अपने 2011-12 से भी अधिक बुरे दौर में गुजर रही थी। आजीविका के मामले में अप्रैल-जून तिमाही और जुलाई से केस और डेथ केस बढऩे लगे थे। इसके बाद मार्च 2011 में तिमाही जीडीपी की वृद्धि 10.3त्न से घटकर जून 2012 में 4.9त्न रह गई। हालांकि, 2011-12 के बाद अर्थव्यवस्था में सुधार शुरू हुआ। 2010-11 में वार्षिक जीडीपी वृद्धि 8.5त्न से घटकर 2011-12 में 5.2त्न हो गई। 2016-17 तक इस संकुचन में तेज सुधार हुआ था। इस बार ऐसा नहीं हुआ है और 2017-18 से जीडीपी ग्रोथ लगातार गिर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *