कोटा के प्रभारी सचिव ने की विभागवार योजनाओं की समीक्षा

सड़कों के पेचवर्क एवं मौसमी बीमारियों की रोकथाम हेतु दिये निर्देश
जयपुर, 12 सितम्बर (कासं)। प्रमुख शासन सचिव सार्वजनिक निर्माण विभाग एवं कोटा जिला प्रभारी सचिव आलोक ने कहा कि अधिकारी सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं में पात्र लोगों को लाभान्वित कर जिले के विकास कार्यो को गति देते हुए योजनाबद्ध रूप से कार्य करें। उन्होंने शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों के पेचवर्क कार्य, मौसमी बीमारियों की रोकथाम हेतु आवश्यक सुधार के लिए अधिकारियों को समयबद्ध कार्य करने के निर्देश दिये। जिला प्रभारी सचिव मंगलवार को कोटा के टैगोर सभागार में विभागवार योजनाओं की समीक्षा करते हुए उपस्थित अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं की निरंतर मॉनिटरिंग करते हुए पात्र लोगों को लाभान्वित कर उनकी समस्याओं का समय पर निराकरण करें। विभागवार योजनाओं में राज्य स्तर पर की जा रही मॉनिटरिंग को ध्यान में रखते हुए अधिकारी आवंटित लक्ष्यों की शतप्रतिशत पालना भी करें। उन्होंने सार्वजनिक निर्माण विभाग के कार्यो की समीक्षा करते हुए प्रगतिरत ग्रामीण गौरवपथ व शहरी गौरवपथ के निर्माण कार्य गुणवत्ता की पालना करने, राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण कार्य को गति प्रदान करने, अमझार से सुकेत तक के रोड मरम्मत कार्य को शीघ्रता से पूरा करने के निर्देश दिये। उन्होंने संभाग स्तरीय जीएसटी भवन, दीगोद के तहसील भवन एवं मेडिकल कॉलेज में निर्माणाधीन भवन के कार्यो की निरंतर मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिये। जिला प्रभारी सचिव ने शहरी विकास की समीक्षा करते हुए सुनियोजित प्लान बनाकर आरयूआईडीपी के कार्यो को गुणवत्ता के साथ कराने, अर्फोडेबल हाउसिंग कॉलोनियों में पेयजल वितरण तंत्र में सुधार करने, बूंदी रोड एवं घंटाघर से नयानोहरा तक के सीसी सडक निर्माण कार्य को शीघ्र शुरू करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्र की सभी क्षतिग्रस्त सडकों के पेचवर्क को गुणवत्ता के साथ इसी माह पूरा कराये, निगम दिसम्बर माह तक शहर को ओडीएफ कराने के लिए कार्य करें। उन्होंने दशहरा मेला में कानून व्यवस्था की पालना के साथ-साथ सम्पूर्ण शहर में त्यौहारों के मध्यनजर सफाई के विशेष इंतजाम करने के निर्देश दिये। पेयजल योजनाओं में उन्होंने बोराबास-मंडाना, रानपुर-लखावा के कार्य को दिसम्बर माह तक पूरा कराने के निर्देश दिये। मौसमी बीमारियों की रोकथाम हेतु किये गये प्रयासों की समीक्षा कर उन्होंने प्रचार-प्रसार कर रोगों से बचाव हेतु आमजन को जागरूक करने, स्वाईन फ्लू के रोगियों के लिए अलग से वार्ड निर्धारित करने, ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा व्यवस्थाओं में सुधार हेतु मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को प्रत्येक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर माह में दो दिवस रहकर सम्पूर्ण व्यवस्थाओं की जांच कर सुधार करने के निर्देश दिये। उन्होंने भामाशाह एवं राज योजना की जानकारी लेकर लम्बित भुगतान समय पर करने की बात कही। जिला प्रभारी सचिव ने सहकारिता, कृषि विभाग एवं मंडी समिति को कृषि जिसों की खरीद हेतु आवश्यक तैयारियां करने, समाज कल्याण विभाग को छात्रावासों में भोजन एवं पेयजल की गुणवत्ता की समय-समय पर जांच करने की बात कही। उन्होंने पर्यटन, पुरातत्व विभाग एवं उद्योग विभाग को ग्रामीण हाट एवं ओपन थियेटर को चालू कर स्पीक मेके एवं स्थानीय कलाकारों को प्रोत्साहन के लिए कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश दिये। जिला कलक्टर रोहित गुप्ता ने जिले में चल रहे विभिन्न कार्यक्रमों, नवाचारों की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कृषि विभाग को फसल खराबे से प्रभावित किसानों को बीमा योजना का लाभ दिलाने, पेयजल योजनाओं, सडक निर्माण कार्यो को समय पर पूरा कराने एवं आपसी समन्वय के साथ संवाद बनाये रखकर जिले के विकास कार्यो में भागीदारी से कार्य करने के निर्देश दिये। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण डॉ. राजीव पचार, आयुक्त नगर निगम डॉ. विक्रम जिंदल, सीईओ जिला परिषद जुगलकिशोर मीणा, अतिरिक्त कलक्टर प्रशासन सुनिता डागा सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *