नेट न्यूट्रैलिटी के पक्ष में आईं गूगल जैसी बड़ी कंपनियां

 

वाशिंगटन। अमेरिका में नेट न्यूट्रैलिटी के पक्ष में अब गूगल और फेसबुक जैसी बड़ी कंपनियां भी आ गई हैं। द इंटरनेट एसोसिएशन (आइए) ने अमेरिका के फेडरल कम्युनिकेशन कमीशन (एफसीसी) के फैसले के खिलाफ कानूनी लड़ाई शुरू करने का मन बना लिया है।एफसीसी ने अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल में आए नेट न्यूट्रैलिटी संबंधी कानून को पलट दिया था। इंटरनेट एसोसिएशन के अध्यक्ष मिशेल बकरमैन ने कहा कि संशोधित कानून अमेरिकियों के मुफ्त और खुले इंटरनेट के अधिकार को संरक्षित रखने में विफल रहा है।एफसीसी ने अपने फैसले के पक्ष में तर्क दिया था कि अमेरिका ने ब्रॉडबैंड के बुनियादी ढांचे को विकसित करने में अरबों डॉलर खर्च किए हैं। इसलिए नेट निरपेक्षता में बदलाव किया जा रहा है। इंटरनेट एसोसिएशन में अमेजन, ट्विटर, माइक्रोसॉफ्ट, नेटफ्लिक्स जैसी दिग्गज कंपनियां शामिल हैं। नेट न्यूटै्रलिटी में इंटरनेट सेवा प्रदाता कंपनी किसी भी वेबसाइट के साथ प्राथमिकता के आधार पर भेदभाव नहीं कर सकती है। सभी वेबसाइट को समान इंटरनेट स्पीड दी जाती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *