आईओएस 11 में होंगे ये 5 बेहतरीन फीचर

नई दिल्ली। टेक्नोलॉजी निर्माता कंपनी एप्पल आईफोन और आईपैड के लिए नया ऑपरेटिंग सिस्टम ‘आईओएस 11 लॉन्च करने जा रही है। इसकी घोषणा कंपनी ने ‘वर्ल्ड वाइड डेवलपर कॉन्फ्रेंस 2017 (डब्ल्यूडब्ल्यूसी 2017) में की थी। अब 12 सितंबर को होने वाले एक ईवेंट में कंपनी इसकी उपलब्धता के बारे में आधिकारिक घोषणा करेगी। आईओएस का यह लेटेस्ट वर्जन न सिर्फ नए आईफोन पर सपोर्ट करेगा, बल्कि यूजर इसे पहले से उपलब्ध आईफोन और आईपैड में भी डाउनलोड कर सकेंगे। इसका बीटा वर्जन कुछ महीने पहले ही सीमित ग्राहकों के लिए उपलब्ध हुआ था।पहले से ज्यादा स्मार्ट होगा ‘सिरी: आईओएस 11 में एप्पल के ‘पर्सनल वॉयस असिस्टेंटÓ सिरी को इस साल का सबसे बड़ा अपडेट मिलने जा रहा है। खबर है कि वॉयस असिस्टेंट सिरी के साउंड को पहले से ज्यादा बेहतर बनाया गया है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक से लैस सिरी पहले से ज्यादा भरोसेमंद होगा। यह व्यक्तिगत प्राथमिकताओं को आसानी से समझकर बेहतरीन सुझाव देने में मददगार होगा। इसके इस्तेमाल से यूजर अपने डिवाइस को आसानी से कंट्रोल या ऑर्डर कर सकेंगे। इसके अलावा सिरी अब अंग्रेजी से चाइनीज, फ्रेंच, इटैलियन, स्पैनिश जैसी कई भाषाओं में जवाब देगा।ड्राइविंग से नहीं हटेगा ध्यान: आईओएस 11 में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक को कई खास एप्लीकेशन के साथ जोड़ा जाएगा। इसमें ‘डू नॉट डिस्टर्बÓ फीचर भी जोड़ा गया है। इस फीचर की मदद से आपका फोन ड्राइविंग के दौरान कोई भी नोटिफिकेशन नहीं देगा। इसके अलावा सफारी वेब ब्राउजर पर यूजर जो भी नए शब्द पढ़ेंगे, वो सब चैटिंग के दौरान कीबोर्ड के सजेशन में नजर आएंगे। वहीं, फोटो एप्लीकेशन तस्वीरों को कस्टमाइज करने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक काम करेगी। आईओएस 11 में एप्पल मैप पहले से बेहतर और तेज होगा। एप्पल मैप में स्पीड लिमिट, लेन गाइडेंस और इंडोर मैपिंग जैसे फीचर होंगे। इसमें मॉल और एयरपोर्ट के इंडोर मैप भी देखे जा सकेंगे।कम स्टोरेज में ज्यादा स्पेस: एप्पल अपने लेटेस्ट आईओएस वर्जन में इमेज और विडियो कम्प्रेशन फॉर्मेट बदलने जा रहा है। आईओएस 11 में कैमरा एप हाई एफिशियंसी विडियो कोडिंग (एचईवीसी) को सपोर्ट करेगा। इसका मतलब ये है कि कंप्रेस करने के बाद भी विडियो की क्वालिटी खराब नहीं होगी। रियल टाइम में फोटो और वीडियो एडिटिंग की सुविधा मिलेगी। नए ऑपरेटिंग सिस्टम में हाई एफिशियंसी इमेज फाइल फॉर्मेट (एचईआईएफ) तकनीक है। इससे तस्वीरों का साइज कम करने पर भी उनकी क्वालिटी पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। यह नई तकनीक 16 और 32 जीबी स्टोरेज वाले डिवाइस जैसे कि 5एस, एसई और एप्पल 6 में नई जान फूंकेंगे।शानदार स्वाइप कंट्रोल: नए ऑपरेटिंग सिस्टम में कंट्रोल सेंटर को भी रीडिजाइन किया गया है। अब यूजर इसे अपने हिसाब से कस्टमाइज कर सकेंगे, जो कि इससे पहले संभव नहीं था। हालांकि डिस्प्ले पर नीचे से ऊपर की तरफ स्वाइप कर यूजर इसे पहले भी एक्सेस कर सकते थे। फोन की सेटिंग्स में जाने के अलावा इसका इस्तेमाल, एयरोप्लेन मोड, म्यूजिक प्लेबैक कंट्रोल, ब्राइटनेस और वॉल्यूम के लिए किया जाता था। अब इसका ले-आउट बिल्कुल अलग अंदाज में नजर आएगा।आईपैड पर होगा लैपटॉप जैसा अनुभव: आईपैड प्रो का इस्तेमाल करने वाले यूजर के लिए आईओएस 11 में काफी कुछ नया होगा। प्रो वेरियंट का इस्तेमाल करने वाले यूजर को यह एकदम नए प्रोडक्ट और फीचर का अनुभव कराएगा। आईपैड प्रो के डिस्प्ले पर एप डॉक और फाइल मैनेजर आकर्षक अंदाज में नजर आएंगे। इससे डिवाइस की डिस्प्ले ज्यादा खूबसूरत नजर आएगी। साथ ही स्वाइप जेश्चर और टास्क मैनेजर को भी रीडिजाइन किया गया है। वहीं अब एप्पल पेंसिल के जरिए आईपैड प्रो के सक्रीन लॉक को खोलना संभव होगा। आईपैड पर मल्टीपल एप्लीकेशन का इस्तेमाल करने के लिए यूजर ‘विंडो स्प्लिट फीचर का इस्तेमाल कर सकेंगे। यानी सिंगल स्क्रीन पर एक समय में दो या उससे अधिक एप चला सकेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *