जानिए,किन मामलों में एंड्रॉयड स्मार्टफोन से पीछे है एप्पल आईफोन

नई दिल्ली। विश्व के अधिकतर देशों में एप्पल के आईफोन की धाक है। कई यूजर इसे खरीदने का मन बनाते हैं मगर ज्यादा कीमत की वजह से अपने हाथ पीछे खींच लेते हैं। मगर क्या आप जानते हैं कि आईफोन में पांच ऐसे फीचर नहीं हैं जिनकी जरूरत अक्सर यूजर को होती है और अन्य कंपनियां इस मामले में आगे निकल जाती हैं। आइए जानते हैं इन फीचर के बारे में।गूगल के पिक्सल और सैमसंग के गैलेक्सी एस8 में टाइप सी यूएसबी केबल की सुविधा दी जाती है जो फोन को जल्दी चार्ज करने में मदद करती है। वहीं, आईफोन में अब तक (आईफोन 7 तक) लाइटनिंग कनेक्टर का इस्तेमाल किया जाता है जो फोन को तेजी से चार्ज नहीं कर पाता है। यहां तक कि एलजी और सैमसंग के कई फोन में वायरलेस चार्जिंग का फीचर आ चुका है। मगर लीक जानकारी में बताया गया कि एप्पल अपने फ्लैगशिप फोन यानी आईफोन 8 में वायरलेस चार्जिंग का फीचर दे सकता है।
फिक्स्ड इंटरनल मेमोरी : आईफोन के सभी वेरियंट में एक तय इंटरनल मेमोरी दी जाती ह,ै जिसे जरूरत के मुताबिक बढ़ाया नहीं जा सकता है। मिसाल के तौर पर देखें तो आईफोन में 16 जीबी, 32 जीबी, 64 जीबी इंटरनल मेमोरी जैसे वेरियंट आते हैं। मेमोरी में इजाफा होने के बाद रुपयों में भी अच्छा खासा इजाफा देखने को मिलता है। वहीं अन्य कंपनियां अपने फोन में अलग से इंटरनल मेमोरी लगाने का स्लॉट देती हैं। इस वर्ष आईफोन की जो जानकारी लीक हुई हैं उसमें मेमोरी कार्ड लगाने का विकल्प दिया जा सकता है।
दो सिम स्लॉट: विश्व भर में मौजूद अधिकतर कंपनियां दो सिम का स्लॉट उपलब्ध कराती हैं ताकि यूजर जरूरत पडऩे पर एक फोन में दो टेलिकॉम नेटवर्क का इस्तेमाल कर सके, मगर आईफोन के सभी फोन में एक ही सिम का स्लॉट मौजूद है।
बदल नहीं सकते ब्राउजर: एंड्रॉयड, विंडो और अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम से लैस फोन में एक से ज्यादा ब्राउजर एप का इस्तेमाल किया जा सकता है मगर आईफोन में डिफॉल्ट ब्राउजर का ही इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि कई यूजर को आईफोन का डिफॉल्ट ब्राउजर काफी पसंद आता है।
थर्ड पार्टी एप का नहीं कर सकते इस्तेमाल: एप्पल में किसी थर्ड पार्टी एप का इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं, जिस वजह से कई यूजर को परेशानी का सामना करना पड़ता है। हालांकि थर्ट पार्टी एप फोन में मौजूद जानकारी की सुरक्षा के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं।
प्राइवेसी के लिए खतरनाक हो सकता है आईफोन8 का ये फीचर: एप्पल आईफोन 8 आज यानि मंगलवार को कैलिफोर्निया (यूएसए) के कूपर्टीनो शहर में लॉन्च होगा। टेक जगत के मुताबिक इस नए फोन में 3डी फेशियल रिकग्निशन फीचर दिया जा सकता है। यह फीचर फिंगरप्रिंट बायोमैट्रिक की तर्ज पर काम करता है। अंतर सिर्फ इतना है कि 3डी फेशियल रिकग्निशन फीचर उंगली को स्कैन नहीं करता है बल्कि चेहरे को स्कैन करता है जिससे फोन अनलॉक हो जाता है। वहीं, इस फीचर को तकनीक जगत के लिए प्राइवेसी के खतरे के तौर पर देखा जा रहा है। कई अंग्रेजी वेबसाइट ने सवाल उठाया है कि इस बात के क्या पुख्ता सबूत है कि यह आईफोन-8 से हमारी बायोमैट्रिक जानकारी को कोई चुराएगा नहीं।
हमेशा ऑन रहेगा ऑन, सब कुछ कर सकता है रिकॉर्ड!: हाल ही में आ रही जानकारी के मुताबिक एप्पल आईफोन8 का यह फीचर हमेशा एक्टीवेट रहेगा। यानी जब फोन लॉक मोड में होगा तब भी यह 3डी फेशियल रिकग्निशन फीचर ऑन रहेगा। टेक जगत के मुताबिक जब फोन टेबल या बैड पर रखा होगा उसके बावजूद इसका 3डी फेशियल रिकग्निशन फीचर ऑन रहेगा और वह उन सभी चीजों को रिकॉर्ड कर सकता है जो उसके सामने घटित हो रही हैं। ऐसे में किसी विशेष व्यक्ति का फोन हैक करके उसकी निजी जिंदगी में सेंध लगाई जा सकती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *