गोद लिए गांवों का कुलपति करें निरीक्षण हर छ: माह में – राज्यपाल

जयपुर, 10 जून (का.सं.)। राज्यपाल एवं राज्य विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति कल्याण सिंह ने रविवार को जोधपुर में वहां संचालित राज्य विश्वविद्यालयों की प्रगति की जानकारी ली । जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय, आयुर्वेद विश्वविद्यालय, सरदार पटेल पुलिस विश्वविद्यालय, कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति व रजिस्ट्रार से विश्वविद्यालयों की विभिन्न परीक्षाओं के परिणामों और प्रवेश प्रक्रिया की प्रगति की जानकारी ली।राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को निर्देश दिए है कि गोद लिए गांवों का प्रत्येक छ: महिनें में कुलपति स्वयं निरीक्षण करें। गोद लिए गांव में चल रहे विकास कार्यों की प्रगति को निरन्तर देखने के लिए दो प्रोफेसर व दस विद्यार्थियों के एक दल को जिम्मेदारी देना भी कुलपति सुनिश्िचित करेें। राज्यपाल ने कहा कि संबंधित गांव में साक्षरता दर की प्रगति, फसलों की स्थिति, साम्प्रदायिक सद्भाव की स्थिति, खुले में शौच से मुक्ति के तहत बने शौचालयों की स्थिति की भी अधिकारी समय-समय पर समीक्षा करे। कुलाधिपति सिंह ने कहा है कि गोद लिए गए गांवों में वर्षा से पूर्व तालाबों व जल संरचनाओं की समुचित व्यवस्था भी कुलपति को देखनी होगी। राज्यपाल ने कहा कि कुलपति स्तर पर निस्तारित हो सकने वाली समस्याओं का निस्तारण मौके पर ही कर दिया जाये और अन्य समस्याओं की लिखित रिपोर्ट बनाकर उन्हें प्रस्तुत की जाये।
वृक्षारोपण का लक्ष्य तय करें :- राज्यपाल कल्याण सिंह ने प्रत्येक विश्वविद्यालय में सघन वृक्षारोपण का लक्ष्य तय करने के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने कुलपतियों को विश्वविद्यालय परिसर और गोद लिए गांवों में फलदार व छायादार वृक्ष लगवाने को कहा । साथ ही वृक्षारोपण के महत्व को समझाते हुए छात्रों को इस ओर प्रेरित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि छात्र वृक्षारोपण के संरक्षण की जिम्मेदारी का निर्वहन करें।
स्वच्छता को प्राथमिकता दें :- राज्यपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत की कल्पना को साकार करने के लिए विश्वविद्यालयों के कैम्पस के साथ कक्षाओं की स्वच्छता को अवश्य बनाए रखें। उन्होंने कहा कि कुलपति अपने विश्वविद्यालय में स्वयं एक घण्टा राउण्ड लेकर कक्षाओं व छात्रावासों का निरीक्षण करें। महिला छात्रावासों का निरीक्षण महिला प्रोफेसरों से करवाएं। छात्रावासों के कमरों का निरीक्षण कर छात्रों के मन में विद्यार्थी जीवन से ही व्यवस्थित रहने का भाव जागृत करें, जिससे वे जीवन के हर पथ पर व्यवस्थित जीवन जी सकें। मैस में सफाई व्यवस्था के साथ भोजन की गुणवता का ध्यान रखें।
प्राध्यापकों की उपस्थिति की बायोमैट्रिक प्रणाली आवश्यक :- राज्यपाल ने प्रोफेसर्स की उपस्थिति के लिए बायोमैट्रिक प्रणाली की अनिवार्यता की बात कही। उन्होंने प्रोफेसर्स की उपस्थिति विश्वविद्यालय में आने व जाने दोनों समय पर लिए जाने की आवश्यकता बताई।
परीक्षाओं की पवित्रता बनाए रखें :- राज्यपाल ने नकल मुक्त प्रणाली व परीक्षा कॉपी जांचने की केन्द्रीयकृत व्यवस्था पर विशेष जोर दिया। साथ ही निश्चित केन्द्रों पर ही परीक्षार्थियों की पुस्तिकाएं जांची जाएं। उन्होंने विश्वविद्यालयों में नियुक्त शोद्यपीठो के कार्यों का निरीक्षण करने को कहा।
छात्रों का स्वास्थ्य अत्यधिक महत्वपूर्ण है :- राज्यपाल ने छात्रों के बेहतर स्वास्थ्य पर विशेष जोर दिया। उन्होंने कहा कि छात्रों की खेलों के प्रति विशेष रूचि बढाएं। खेल को छात्रों के जीवन का विशेष अंग बनाए। उन्होंने छात्रों के नियमित स्वास्थ्य जांच के लिए भी कहा। विश्वविद्यालयों के प्रतिनिधियों ने जानकारी दी कि विशेष दिवसों, महापुरूषों की जयंतियों, राष्ट्रीय पर्वों आदि पर विद्यार्थियों का स्वास्थ्य जांच करवाया जाता है। राज्यपाल ने गांधी विषयक संगोष्ठियां आयोजित करने की बात कही । उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों में महात्मा गांधी के जीवन, विचाराधारा को लेकर आयोजित गोष्ठियों के प्रथम चरण में विशेषज्ञों द्वारा व्याख्यान दिया जाए व द्वितीय चरण में छात्रों की जिज्ञासा व पूछे गए प्रश्नों का जवाब देकर उन्हें संतुष्ट किया जाएं। इसी प्रकार छात्रों की तर्कशक्ति को बढाने के लिए वाद-विवाद व विचार प्रस्तुतिकरण जैसी प्रतियोगिताएं आयोजित की जानी आवश्यक है। बैठक में विश्वविद्यालयों के कुलपतियों ने पेंशन संबंधी समस्याओं को राज्यपाल के समक्ष रखा जिस पर राज्यपाल ने निस्तारण का आश्वासन दिया। बैठक में जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय व आयुर्वेद विश्ववि़द्यालय के कुलपति प्रोफेसर राधेश्याम शर्मा, पुलिस विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार जे.सी.पुरोहित, डायरेक्टर एज्यूकेशन डॉ. बी एस राजपुरोहित के साथ आयुर्वेद विश्ववि़द्यालय के रजिस्ट्रार अतुलबल रतनू उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *