आसक्तजीवनशैली के कारण राज्य में क्रॉनिक किडनी डिजीज बढ़ी : डॉ. राजेश

जयपुर, 13 मार्च(एजेन्सी)। फोर्टिस एस्कॉट्र्स अस्पताल, जयपुर के चिकित्सकों ने आगाह किया है कि राजस्थान की एक तिहाई से अधिक आबादी को आसक्त जीवनशैली अपनाने के कारण क्रोनिक किडनी डिजीज (सीकेडी) होने का खतरा बढ़ा है। राज्य में उच्च रक्तचाप और मधुमेह के मामले बढ़ रहे हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य परिवार सर्वेक्षण (एनएफएचएस 4) के आंकड़ों के अनुसार, राजस्थान में 12.8 प्रतिशत लोग उच्च रक्तशर्करा से ग्रस्त हैं, जबकि 19.3 प्रतिशत लोग उच्च रक्तचाप से ग्रस्त हैं। एक साथ, दोनों 32 प्रतिशत आबादी को सीकेडी की चपेट में लाते हैं। यह चौंकाने वाला खुलासा डॉ. राजेश कुमार गार्सा ने किया। डॉ. राजेश कुमार गार्सा, कंसल्टेंट नेफ्रोलॉजी, फोर्टिस एस्कोट्र्स हॉस्पीटल, जयपुर ने कहा कि उच्च रक्तचाप और उच्च रक्त शर्करा के मामलों में पिछले 5 सालों में वृद्धि हुई है, इसके लिए मुख्य रूप से शारीरिक गतिविधि में कमी और पैकेट बंद भोजन और पेय पदार्थों के रूप में परिष्कृत चीनी का अधिक मात्रा में सेवन करने की वजह से। वास्तव में, उच्च रक्चाप गुर्दे की विफलता का दूसरा प्रमुख कारण है, जबकि अनावश्यक दर्द निवारक दवाओं का सेवन भी किडनी को नुकसान पहुंचाने का प्रमुख कारण है। जिन्हें मधुमेह या उच्च रक्तचाप का पारिवारिक इतिहास है, उन्हें विशेष रूप से इसके प्रति सावधान रहना चाहिए और 40 वर्ष की आयु के बाद नियमित रूप से सख्त निगरानी करनी चाहिए। इस वर्ष, विश्व किडनी दिवस की थीम किडनी हेल्थ फॉर एवरीवन एवरीवेयर है, जो उच्च और बढ़ते किडनी रोगों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और ट्रांसप्लांट डोनेशन को बढ़ाने के लिए निर्धारित है। नियमित रूप से जांच कराने की सलाह देने के साथ, डॉ. गार्सा ने बातें भी कहीं, शरीर में सूजन, रात में बार-बार बाथरूम जाना, कमजोरी, भूख का बढऩा, मतली या उल्टी, खुजली, बार-बार संक्रमण और रक्तचाप में उतार-चढ़ाव जैसे संकेतों को देखें- ये गुर्दे की क्षति के शुरुआती संकेत हो सकते हैं। डायबिटीज या उच्च रक्तचाप से ग्रस्त किसी व्यक्ति को साल में कम से कम एक बार रक्त, मूत्र और रक्तचाप की जांच जरूर करवानी चाहिए। ब्लड ग्लूकोज के स्तर की घर पर निगरानी करना, घर पर ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखना और इसके प्रति जागरुक रहना और इन परिस्थितियों में उपयुक्त आहार का सेवन करना इससे बचाव करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *