सरकारी अध्यापक की हत्या, दो को उम्रकैद – कुल्हाड़ी और डंडों से हत्या कर शव फेंक दिया था

श्रीगंगानगर, 12 जून (का.सं.)। रुपयों के लेनदेन के विवाद में एक सरकारी अध्यापक की कुल्हाड़ी और डंडों से वार कर नृशंस हत्या कर देने के दो आरोपितों को अदालत ने दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। हनुमानगढ़ में मंगलवार को अजा-जजा अत्याचार निवारण मामलों की विशेष अदालत के न्यायाधीश पृथ्वीपाल सिंह ने यह निर्णय सुनाया। आरोपितों को 25-25 हजार का अर्थदंड लगाया गया है, जिसे अदा नहीं करने पर दो-दो वर्ष की अतिरिक्त सजा भुगतनी हेागी। इस न्यायालय में विशेष लोक अभियोजक ओपी यादव ने प्रकरण की जानकारी देते हुए बताया कि हनुमानगढ़ टाऊन में आदर्शनगर निवासी जयदेव मेघवाल द्वारा एक अक्टूबर 2014 को दी गई रिपेार्ट के आधार पर अंग्रेज सिंह पुत्र स्वरूप सिंह जटसिख निवासी दौलतांवाली, थाना पीलीबंगा और रामेश्वर पुत्र कुम्भाराम मेघवाल निवासी चक 14 एसएसडब्ल्यू-कोहलां पर उसके पिता रूपराम मेघवाल की हत्या करने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया था। मृतक रूपराम मेघवाल सरकारी स्कूल में अध्यापक था। घटना वाले दिन उसके पास रामेश्वरलाल का फोन आया। रामेश्वरलाल, मकतूल रूपराम का साढू है। रामेश्वरलाल ने रूपराम से कुछ रुपये ले रखे थे। यह रुपये देने के बहाने रूपराम को उसने फतेहगढ़ माइनर नहर के पास बुलाया। जयदेव ने दर्ज करवाये मुकदमे में बताया है कि उस दिन वह अपने पिता के साथ ही था। पिता ने उसे सेम नाला के पास उतार दिया और घर जाने को कहा। इसके बाद शाम को उसने कर्ईं बार पिता को फोन किया, लेकिन उनका मोबाइल स्विच ऑफ था। मौसा रामेश्वरलाल से बात की, तो बताया कि उसने रूपराम को रुपये दे दिये थे और वह उसके यहां से चला गया था।रूपराम की बाद में खून से सनी हुई लाश फतेहगढ़ माइनर नहर के पास ही पड़ी मिली थी। एडवोकेट ओपी यादव ने बताया कि पुलिस ने तफ्तीश की तो पाया कि रूपराम और रामेश्वरलाल में रुपयों के लेनदेन का विवाद था। इसी के चलते रामेश्वरलाल ने अपने दोस्त अंग्रेजसिंह के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने इन दोनों को गिरफ्तार कर लिया। लगभग 4 वर्ष से यह दोनों न्यायिक हिरासत के तहत जेल में ही है। मंगलवार को न्यायाधीश पृथ्वीपाल सिंह ने धारा 302/34 के तहत निर्णय देते हुए दोनों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। 25-25 हजार का अर्थदंड नहीं देने पर इनको दो-दो वर्ष की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी।

 

One thought on “सरकारी अध्यापक की हत्या, दो को उम्रकैद – कुल्हाड़ी और डंडों से हत्या कर शव फेंक दिया था

  • June 13, 2018 at 10:47 am
    Permalink

    There is perceptibly a lot to know about
    this. I consider you made certain nice points in features also.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *