नामांकन पत्र रैलियों के बहाने पहला शक्ति प्रदर्शन

मुख्य प्रत्याशियों ने झोंक दी पूरी ताकत

श्रीगंगानगर, 19 नवम्बर (का.सं.)। विधानसभा चुनाव में नामांकन पत्र दाखिल करने के अन्तिम दिन सोमवार को जिला कलक्ट्रेट पर विभिन्न प्रत्याशियों ने अपने-अपने समर्थकों, कार्यकर्ताओं और आम नागरिकों के साथ चुनाव प्रचार का पहला शक्ति प्रदर्शन किया। शक्ति प्रदर्शन व धूम-धड़ाका करते हुए नामांकन पत्र दाखिल किये। कलक्ट्रेट पर प्रात: 11 बजे के बाद एक-एक कर नेताओं की नामांकन रैलियां पहुंचने लगीं। ढोल-नगाड़े और डीजे की धुन्नों पर इन नेताओं के कार्यकर्ता तथा समर्थक नाचते-गाते और नारेबाजी करते कलक्ट्रेट में पहुंचे। अन्तिम दिन काफी संख्या में लोगों के आने के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था के कड़े बंदोबस्त किये गये थे। सभी रैलियों के आने-जाने का एक ही मार्ग रखा गया था, लेकिन नामांकन पत्र दाखिल करने आने वाले नेताओं को इसके लिए समय अलग-अलग दिया गया था। सभी प्रत्याशियों की रैलियां गोल बाजार से कचहरी रोड होते हुए महाराजा गंगासिंह चौक तक पहुंची। गंगासिंह चौक में नगरपरिषद-जिला परिषद के बीच मेन रोड पर बैरिकेटिंग की हुई थी। रैलियां लेकर आने वाले लोगों को यही पर रोक दिया गया। सिर्फ प्रत्याशी, उसके इलेक्शन एजेंट व तीन अन्य जनों-कुल पांच जनों को ही कलक्ट्रेट में एसडीएम सौरभ स्वामी के कार्यालय तक जाने दिया गया। उनके कार्यालय के बाहर काफी लोग मौजूद रहे, लेकिन नामांकन पत्र भरते समय एसडीएम के ऑफिस में सिर्फ पांच जने ही उपस्थित रहने दिये गये। एक के बाद एक रैलियां निकलने से शहरभर में यातायात व्यवस्था चरमराई रही। यातायात को व्यवस्थित करने के लिए जिला पुलिस और प्रशासन द्वारा कोई इंतजाम नहीं किया गया। सारा अमला महाराजा गंगासिंह चौक तथा कलक्ट्रेट के आसपास ही लगाया गया। शहर के मुख्य मार्गांे पर रैलियों के गुजरने के दौरान अनेक स्थानों पर यातायात बार-बार अवरुद्ध और ठप हुआ। रैलियों में शामिल होने के लिए अपने-अपने वाहनों में सवार होकर आये लोगों ने इन वाहनों को मुख्य मार्गां व गलियों में बेतरतीब खड़ा कर दिया। इससे भी लोगों को काफी परेशानी हुई। रैलियों के आने-जाने के मार्गांेपर कहीं भी यातायात पुलिस नजर नहीं आई। इस कारण वाहनों के जाम लग गये और उनके होरनो की चिल-पौं सुनाई देती रही।
एक-दूसरे को पछाडऩे की हौड़ अन्तिम दिन मुख्य प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र दाखिल किये हैं। इन प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र रैली में ही अपनी पूरी ताकत झोंक दी। चुनाव लडऩे जा रहे सभी नेताओं ने इस रैली के जरिये अपनी-अपनी ताकत दिखाते हुए एक-दूसरे को पछाडऩे में कोई कसर नहीं छोड़ी। अन्तिम दिन मुख्य प्रत्याशियों द्वारा नामांकन पत्र भरने के कारण लोग भी बंटे हुए दिखाई दिये। अगर अलग-अलग दिन नामांकन पत्र भरे गये होते, तो अंदाजा लगाया जा सकता था कि कौनसा नेता कितना धरती पकड़ है। आज एक दिन में ही सबकी रैलियों का घाल-मेल हो गया। लिहाजा अंदाजा लगाना मुश्किल हो गया कि कौन भारी है कौन कमजोर। फिर भी एक मोटा आंकलन जरूर हुआ है, जिसमें कांग्रेस-भाजपा के अधिकृत प्रत्याशियों के मुकाबले इन दलों से बागी होकर चुनाव लडऩे वाले नेताओं की नामांकन पत्र रैलियों में ज्यादा लोग दिखाई दिये।
मुहूर्त समय पर दौड़े प्रत्याशी अन्तिम दिन सोमवार को कांग्रेस के अजय चाण्डक, भाजपा की विनीता आहूजा, बसपा के प्रहलाद राय टाक, भाजपा के बागी-पूर्व मंत्री राधेश्याम, कांग्रेस के बागी राजकुमार गौड़ एवं जयदीप बिहाणी, निर्दलीय मनिन्द्र सिंह मान व एक अन्य निर्दलीय नेत्री करिशमा ने नामांकन पत्र दाखिल किये हैं। अजय चाण्डक, विनीता आहूजा, प्रहलाद राय टाक, राधेश्याम, राजकुमार गौड़ व जयदीप बिहाणी की रैलियां शहर में अलग-अलग स्थानों से रवाना हुईं। विनीता आहूजा की रैली मेें भाजपा के जिलाध्यक्ष हरीसिंह कामरा सहित अनेक वरिष्ठ नेता दिखाई दिये। नेहरू पार्क से विनीता की रैली रवाना होने से पहले वहां सभा भी की गई, जिसमें अनेक वक्ताओं ने सम्बोधित किया। कांग्रेस बागी जयदीप बिहाणी की नेहरू पार्क से रैली रवाना हुई। जयदीप बिहाणी और उनके समर्थक आज केसरिया रंग में रंगे हुए दिखाई दिये। जयदीप ने केसररिया रंग की जॉकेट पहनी हुई थी, तो उनके समर्थकों ने इसी रंग के साफे व पटके पहने हुए थे। पूर्व मंत्री राधेश्याम व उनके समर्थकों ने गुलाबी रंग की टोपियां, पटके और साफे पहन रखे थे। इसी रंग के उन्होंने झंडे उठाये हुए थे। बसपा प्रत्याशी प्रहलाद राय टाक पार्टी के गहरे नीले रंग में रंगे हुए दिखाई दिये। उनकी रैली भी काफी जोरदार रही। कांग्रेस के एक अन्य बागी राजकुमार गौड़ के समर्थक रामलीला मैदान से रवाना हुए। उनकी रैली में लोगों का एक लम्बा हुजूम था। सबसे ज्यादा भारी भीड़ इसी रैली में दिखाई दी। कांग्रेस के अशोक चाण्डक की ब्लॉक एरिया से रैली रवाना होकर कलक्ट्रेट में पहुंची। खास बात ये रही कि इन सभी मुख्य प्रत्याशियों ने मुहूर्त समय के अनुसार तीन-चार जनों के साथ कलक्ट्रेट जाकर पहले नामांकन पत्र दाखिल कर दिये। इसके बाद वे रैलियों के साथ कलक्ट्रेट में पहुंचे। जयदीप बिहाणी तो फार्म भरने का शुभ मुहूर्त समय निकलते देखकर एक जने के साथ स्कूटर पर ही कलक्ट्रेट में पहुंच गये।
मैं चुनाव मैदान से नहीं हटूंगा : बिहाणी कांग्रेस से बागी हुए वरिष्ठ नेता जयदीप बिहाणी ने नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि उन्होंने नामांकन पत्र वापिस लेने के लिए नहीं भरा है। वे हर हालत में चुनाव लड़ेंगे। चुनाव में वे बैठेंगे नहीं, बल्कि पूरी ताकत से चुनाव लड़ेंगे। कांग्रेस के असंतुष्ट नेताओं द्वारा सांझा प्रत्याशी खड़ा करने के लिए तीन दिन पूर्व आरम्भ की गई कवायद के बारे में पूछने पर जयदीप बिहाणी ने कहा कि अगर कोई अब भी इसके लिए प्रयास करता है, तो कोई गलत बात नहीं है, लेकिन मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि सबसे ज्यादा मजबूत प्रत्याशी वे खुद हैं, इसलिए सभी को उनका ही समर्थन करना चाहिए।
विकास के मुद्दे पर वोट मांगेंगे : विनीता भाजपा प्रत्याशी विनीता आहूजा ने फॉर्म भरने के बाद मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा कि केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकारों ने अपने शासनकाल में हर वर्ग के लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए अनेक जनकल्याणकारी योजनाएं शुरू कीं। इन योजनाओं से हजारों-लाखों लोग लाभान्वित हुए हैं। चुनाव प्रचार में वे केन्द्र व राज्य सरकार की ऐसी ही कल्याणकारी योजनाओं और नीतियों-रीतियों के आधार पर लोगों से वोट देने की अपील करेगी। उन्होंने कहा कि उनका मुख्य मुद्दा विकास का रहेगा। श्रीगंगानगर शहर को विकास की बहुत जरूरत है,जो कि काफी समय से रुका पड़ा है। भाजपा सरकार ही इस शहर का विकास करवा सकती है। इस मौके पर डॉ. दर्शन आहूजा, हरीसिंह कामरा, उम्मेद सिंह राठौड़ सहित काफी संख्या में भाजपा नेता मौजूद थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *