गायब हो चुकी इमीग्रेशन सर्विस एजेंसी पर केस

श्रीगंगानगर, 16 फरवरी (नि.स.)। श्रीगंगानगर में एच ब्लॉक में कुछ अरसा पहले खुली एक इमिग्रेशन सर्विस एजेंसी की संचालक दम्पत्ति समेत तीन जनों पर एक फैमिली को पीआर वीजा से कनाडा सैटल कर देने का झांसा देकर अढ़ाई लाख की ठगी करने का मामला कोतवाली में दर्ज हुआ है। इस इमीग्रेशन सर्विस एजेंसी का दफ्तर पिछले कईं दिनों से बंद है। इसका संचालक दम्पत्ति भी गायब है। कोतवाली में मुकदमा दर्ज करवाते हुए चक 18 पीएस निवासी चरण सिंह पुत्र प्यारासिंह मेहरा ने बताया कि उसने मार्च 2016 में एच ब्लॉक स्थित आईडीपी इमीगे्रशन सर्विस के ऑफिस में जाकर इसके संचालक अश्विनी पुत्र मदनलाल निवासी गली नं. 5 सब्जी मण्डी के नजदीक अबोहर, उसकी पत्नी रोहिका सिद्धू तथा यहां नई धानमण्डी में रहने वाले उसके साले विजय पुत्र अमीलाल कुम्हार से सम्पर्क किया था। चरण सिंह के अनुसार उसने अपने पुत्र सुखविन्द्र सिंह, पुत्रवधू सुमनदीप कौर, पौत्र सतनाम तथा पोत्री मन्नत को पीआर वीजा से कनाडा सैटल करना था। अश्विनी, रोहिका और विजय ने उसे भरोसा दिलाया कि वे उसके पुत्र के परिवार को कनाडा में सैटल कर देंगे। उन्होंने बहुत से लोगों को यूएसए, न्यूजीलैंड और कनाडा आदि देशों में स्टडी, वर्क, टूरिस्ट और पीआर वीजा से भेजा है। चरण सिंह के अनुसार उसने इन पर भरोसा कर लिया। उससे इस काम के बदले में 5 लाख 60 हजार की डिमांड की। अप्रेल माह में उसने तीन चैक दे दिये। इन चैकों के जरिये क्रमश: 50 हजार, 31 हजार और एक लाख 60 हजार रुपये अप्रेल, मई व जून में अलग-अलग तारीखों को विदड्रॉ किये गये। इनमें से एक लाख 60 हजार रुपये अश्विनी ने खुद अपने नाम से निकाले। तत्पश्चात् उसे कहा गया कि पीआर वीजा हासिल करने की प्रक्रिया कुछ लम्बी होती है। इसके लिए उसे इंतजार करना होगा। चरण सिंह के अनुसार काफी इंतजार करने पर भी उसे पीआर वीजा नहीं दिया गया। वह बार-बार इन तीनों से सम्पर्क करता रहा। विजय कुम्हार ने भी उसे भरोसे में रखा कि उनका काम अवश्य हो जायेगा। चरण सिंह के मुताबिक वह विगत दिसम्बर माह में एच ब्लॉक में जब आईडीपी इमीग्रेशन के ऑफिस में गया तो वहां ताला लगा हुआ था। अड़ोस-पड़ोस के लोगों ने बताया कि यह दफ्तर कईं दिनों से बंद है। फोन पर सम्पर्क किये जाने पर भी अश्विनी और रोहिका उपलब्ध नहीं हो रहे। उसका पैसा वापिस नहीं मिला।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *