राष्ट्रीय कौशल विकास निगम एवं स्वायत्त शासन विभाग के मध्य अनुबंध

जयपुर, 6 नवम्बर (कासं.)। राष्ट्रीय कौशल विकास निगम द्वारा आगामी तीन वर्षो में प्रदेश के 30,000 शहरी युवक-युवतियों को प्रशिक्षण के माध्यम से कौशल विकास कर रोजगार उपलब्ध करवाया जाएगा। इस संबंध में सोमवार को सांयकाल स्वायत्त शासन विभाग एवं राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के मध्य एक अनुबन्ध किया गया है। जिस पर निदेशक एवं संयुक्त सचिव स्वायत्त शासन विभाग पवन अरोडा एंव राष्ट्रीय कौशल विकास निगम की ओर से प्रकाश शर्मा, मुख्य वित्तीय अधिकारी द्वारा हस्ताक्षर किये गये। इस अवसर पर परियोजना निदेशक स्वायत्त शासन विभाग एस.आर.मीणा तथा प्रदेश की सभी नगरीय निकायों में कार्यरत दीन दयाल उपाध्याय राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के जिला प्रबंधक भी उपस्थित थे।निदेशक एवं संयुक्त सचिव स्वायत्त शासन विभाग पवन अरोडा ने बताया कि इस अनुबन्ध में राष्ट्रीय कौशल विकास निगम द्वारा आगामी तीन वर्षो में तीस हजार शहरी युवक-युवतियों को प्रशिक्षण के माध्यम से प्रशिक्षण द्वारा कौशल विकास कर रोजगार उपलब्ध करवाया जाएगा। राष्ट्रीय कौशल विकास निगम प्रदेश के सभी नगर निकायो में अपने प्रशिक्षण भागीदारों केे साथ प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित करवाएगा, प्रशिक्षण प्राप्त युवक-युवतियों में 50 प्रतिशत को विभिन्न कम्पनियों, फर्मो, एजेन्सियों इत्यादियों में मजदूरी के आधार पर रोजगार उपलब्ध करवाएगा। इसके साथ ही 20 प्रतिशत प्रशिक्षण प्राप्त युवक-युवतियों को स्वरोजगार उपलब्ध करवाया जाना सुनिश्चित करेगा।
उन्होनें बताया कि राष्ट्रीय कौशल विकास निगम भारत सरकार द्वारा निर्धारित कॉमन नाम्र्स के आधार पर प्रशिक्षण प्रदाताओं का निर्धारण, बायोमेट्रिक अटडेन्स, निर्धारित मापदण्डों को पूर्ण करने वाले प्रशिक्षक, क्लास रूम एवं प्रयोगशाला में निर्धारित मापदण्डानुसार उपकरणों नियमित निरीक्षण इत्यादि को भी सुनिश्चित करेगा। चालू वित्तीय वर्ष 2017-18 वर्ष में स्थानीय निकाय विभाग द्वारा राष्ट्रीय कौशल विकास निगम को 8,000 शहरी युवक-युवतियों को प्रशिक्षण दिए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इन लक्ष्यों को प्राप्त करने हेतु राज्य सरकार द्वारा राशि रूपये 12.71 करोड राष्ट्रीय कौशल विकास निगम को उपलब्ध करवाएगा। अनुबन्ध के अनुरूप राशि रूपये 6.35 करोड प्रथम किश्त के रूप में उपलब्ध करवायी जाएगी। अरोडा ने कहा कि राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के साथ किया गया अनुबन्ध शहरी कौशल विकास के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा, इसके माध्यम से सभी नगर निकायों में युवक-युवतियों को प्रशिक्षण सुविधाएं उपलब्ध हो सकेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *