विटामिन और मिनरल की गोलियों का कोई स्वास्थ्य लाभ नहीं -अध्ययन

विटामिन और मिनरल की गोलियों से सेहत में कोई खास फायदा नहीं होता है। एक अध्ययन में यह दावा किया गया है। शोध में पाया गया कि आमतौर पर खाने में मिलने वाले पोषक तत्वों की भरपाई के लिए लोग विटामिन और मिनरल की गोलियां लेते हैं, जिससे सेहत में कोई खास फायदा नहीं होता है। हालांकि इससे कोई नुकसान भी नहीं होता है। कनाडा में सेंट माइकल अस्पताल और टोरंटो विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के अनुसार पूरक आहार के तौर पर मल्टीविटामिन, विटामिन-डी , कैल्शियम और विटामिन-सी सबसे अधिक लिया जाता है। इससे कोई लाभ नहीं मिलता। हालांकि इससे किसी तरह का कोई खतरा भी नहीं होता है। यह अध्ययन ‘जर्नल ऑफ द अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजीÓ में प्रकाशित हुआ है। आमतौर पर खाने से जरूरी पौष्टिक तत्व नहीं मिलने की कमी को पूरा करने के लिए विटामिन और मिनरल सप्लीमेंट लिए जाते हैं। प्रमुख शोधकर्ता डेविड जेनकिन्स के मुताबिक हम यह देखकर आश्चर्यचकित थे कि लोग आमतौर पर जो पूरक आहार लेते हैं, उसके बहुत ही कम सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलते हैं। उन्होंने कहा कि अगर आप मल्टीविटामिन, विटामिन डी, कैल्शियम या विटामिन सी लेते हैं तो यह नुकसानदेह नहीं है। मगर इसका कोई स्पष्ट फायदा भी नजर नहीं आता है। अध्ययन में पाया गया कि सिर्फ फॉलिक एसिड और विटामिन-बी के साथ फॉलिक एसिड दिल की बीमारी के खतरे को कम करते हैं। इस बीच नियाचिन और एंटीऑक्सीडेंट का बहुत ही कम प्रभाव दिखा, जिससे भविष्य में किसी भी बीमारी के चलते जान का खतरा बढ़ता है। जेनकिन्स का कहना है कि यह अध्ययन दिखाता है कि लोगों को सप्लीमेंट खाने से पहले सतर्क रहना चाहिए कि वे क्या ले रहे हैं। साथ ही उन्हें यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि आपके द्वारा लिए जा रहे सप्लीमेंट शरीर में विटामिन और मिनरल की कमी को पूरा भी करते हैं या नहीं। शोधकर्ताओं की टीम ने विटामिन ए, बी-1, बी-2, बी-3, बी-6, बी-9 (फॉलिक एसिड), सी, डी, ई, बेटा-कैरोटीन, कैल्शियम, आयरन, जिंक, मैग्निशियम और सेलेनियम सप्लीमेंट से संबंधित डाटा की समीक्षा की। ‘मल्टीविटामिनÓ का मतलब यह नहीं होता कि उसमें कुछ चुनिंदा विटामिन हों, बल्कि उसमें अधिकतर सभी विटामिन होते हैं।
विटामिन की बजाय खानपान पर ध्यान जरूरी- शोधकर्ताओं के मुताबिक फॉलिक एसिड में कमी आने से दिल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। शरीर में बाकी विटामिन और मिनरल को पूरा करने के लिए सप्लीमेंट पर निर्भर रहने के बजाय स्वस्थ खानपान पर ध्यान दिया जाए। अच्छी डाइट लेकर शरीर में जरूरी सभी पौष्टिक तत्वों की कमी को पूरा किया जा सकता है। डेविड जेनकिन्स के अनुसार अब तक किसी भी शोध में यह बात सामने नहीं आई है कि फल, सब्जियों और मेवे से बेहतर कोई विकल्प है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *