ओरेकल कॉरपोरेट ने जेनिसिस फाउंडेशन के साथ साझीदारी की

गुरुग्राम। ओरेकल ने समूचे भारत में सीएचडी से जूझ रहे वंचित बच्चों की हार्ट सजर्री के लिये अपना प्रयास जारी रखने की घोषणा की। जेनिसिस फाउंडेशन के साथ अपनी साझेदारी के जरिये, ओरेकल का लक्ष्य धन इक करना और इस विषय में देशभर में जागरूकता फैलाना है। जेनिसिस फाउंडेशन एक एनजीओ है जो छोटे बच्चों के दिलों की रक्षा करने का काम करते हैं। ओरेकल कॉरपोरेट सिटिजनशिप, इंडिया के सीनियर मैनेजर, राजेंद्र त्रिपाठी ने कहा, ”हर साल सीएचडी के साथ पैदा होने वाले बच्चों की संख्या चिंताजनक है और कई बच्चे जागरूकता के अभाव और सही समय पर इलाज ना मिलने के कारण बच्चे जीवित नहीं रह पाते हैं। दिल की देखभाल, पहले से अधिक सक्रिय, स्वस्थ जीवनशैली के बारे में जागरूकता फैलाकर, प्रोजेक्ट लिटिल हाट्र्स का लक्ष्य सकारात्मक प्रभाव डालना है। साथ ही उनका लक्ष्य इस कार्य के प्रति बड़ी संख्या में लोगों को प्रेरित करना है।जेनिसिस फाउंडेशन के संस्थापक ट्रस्टी, प्रेमा सागर ने इस साझीदारी के बारे में कहा, ”ओरेकल के साथ साझीदारी करके हमें बेहद खुशी हो रही है। इससे सीएचडी से पीडि़त बच्चों को दूसरा जीवन जीने का मौका मिला है। साथ ही इसकी जरूरतों के बारे में जागरूकता फैलाने से इस क्षेत्र काफी कुछ किया जा सकता है। ओरेकल के साथ मिलकर हमें उम्मीद है कि हम बड़ी संख्या में समाज को सीएचडी से पीडि़त वंचित बच्चों को मदद करने के लिये प्रभावी बदलाव ला पायेंगे और उन्हें प्रेरित कर पायेंगे।”प्रोजेक्ट लिटिल हाट्र्स नामक यह प्रोग्राम खासतौर से सर्जरी के लिये 1,00,000 अमेरिकी डॉलर का सहयोग देने का एक समग्र तरीका है। साथ ही इस साल आयोजित किये गये कार्यक्रमों के माध्यम से इसने धन इक_ा करने और जागरूकता फैलाने जैसे काम भी किये हैं। इस आर्थिक मदद और लगातार होने वाले इन जागरूकता कार्यक्रमों का लक्ष्य 150 से भी अधिक बच्चों को सर्जरी में मदद पहुंचाना है। जीवन बहुमूल्य है और इसे बचाना सभी चीजों से ज्यादा आवश्यक है। इस बात को ध्यान में रखते हुये जेनिसिस फाउंडेशन ने देशभर में महत्वपूर्ण सर्जरी करवाने में प्रमुख भूमिका निभाई है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *